मैं किसी को भी पटक सकता हूँ- योगेश्वर

  • 1 अगस्त 2014
योगेश्वर दत्त

ग्लासगो कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारतीय पहलवान योगेश्वर दत्त ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, "जब मैं मुका़बले के लिए उतरता हूँ तो पूरे हौसले से उतरता हूं. सामने चाहे कोई भी हो, मैं नहीं डरता."

ग्लासगो से फ़ोन पर बात करते हुए योगेश्वर बोले, "मुझे लगता है कि मैं किसी को भी पटखनी दे सकता हूँ."

आसान मुक़ाबला

योगेश्वर दत्त

योगेश्वर ने गुरुवार देर शाम 65 किलो फ़्रीस्टाइल वर्ग में कनाडा के जेवोन बैलफ़ोर को 10-0 से हराया. योगेश्वर ने महज़ डेढ़ मिनट के अंदर ही स्वर्ण अपने नाम कर लिया.

वो बोले, "मैं एकदम लय में था. मेरा हर एक दांव लगता चला गया." स्वर्ण जीतते ही योगेश्वर दर्शक दीर्घा में भारतीय प्रशंसकों से मिलने चले गए.

इसके बारे में उन्होंने कहा, "लोग इतनी दूर से मेरा मुक़ाबला देखने, मेरा उत्साह बढ़ाने आए थे. उन्हीं की वजह से तो हम हैं. इसलिए मैं उनसे मिलने चला गया."

सुशील कुमार का साथ

योगेश्वर दत्त

योगेश्वर ने साथी पहलवान सुशील कुमार की भी जमकर तारीफ़ की. उन्होंने बताया, "सुशील सुबह से ही मेरे साथ थे. लगातार मुझे टिप्स देते रहे और मेरा उत्साह बढ़ाते रहे."

अब योगेश्वर का अगला लक्ष्य एशियन गेम्स और रियो ओलंपिक हैं. वो आराम के बिलकुल मूड में नहीं हैं. "भारत लौटते ही प्रैक्टिस शुरू कर दूंगा और दोनों ही स्पर्धाओं में स्वर्ण जीतने की पूरी कोशिश करूंगा."

वे बजरंग, अमित कुमार, सत्यव्रत और पवन जैसे युवा पहलवानों से भी प्रभावित हैं और कहते हैं कि वो भी भारत को कुश्ती में ऊँचाइयों पर ले जाएँगे.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)