फ़ीफ़ा: सीरियल कटखने हुए लुई सुआरेज़?

  • 25 जून 2014

उरुग्वे ने भले इटली को वर्ल्ड कप से बाहर का रास्ता दिखा दिया हो, लेकिन टीम के सुपर स्टारलुई सुआरेज़ नई मुश्किल में फंस गए हैं.

उन पर इटली के मिडफ़ील्डर जॉर्जियो किएलीनी पर दांत गड़ाने या काटने का आरोप लगा है. सुआरेज़ के करियर में तीसरी बार अपने विपक्षी खिलाड़ी को दांत से काटने का आरोप लगा है.

किएलीनी ने मैच रेफ़री को टीशर्ट नीचे कर दांत से काटे जाने का निशान भी दिखाया लेकिन रेफ़री ने कोई कार्रवाई नहीं की.

किएलीनी ने मैच के बाद कहा, "सुआरेज़ सनकी हैं. मैं देखना चाहूंगा कि फ़ीफा मैच के वीडियो का इस्तेमाल सुआरेज़ के ख़िलाफ़ सबूत के तौर पर करे. रेफ़री ने निशान तो देखा लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की."

(सुआरेज़-किएलीनी के बीच हुए विवाद का वीडियो देखिए)

दूसरी ओर सुआरेज़ ने उरुग्वे के टेलीविजन से कहा, "मैदान में यह सब चलता रहता है. हम दोनों एक दूसरे से टकराए और उसने मुझे अपने कंधे से धक्का दिया. ऐसी घटनाएं होती रहती हैं, इसको लेकर हाय तौबा मचाने की जरूरत नहीं है."

फ़ुटबॉल मैचों में लुईस सुआरेज़ ने काटी दाँत

  • 7 मैचों का निलंबन. वर्ष 2010 में आईएक्स के कप्तान रहते हुए उन्होंने पीएसवी आइंडहोवेन के खिलाड़ी ओटमन बक्कल के कंधे पर दाँत काट लिया था.

  • 10 मैचों की पाबंदी. वर्ष 2013 में प्रीमियर लीग के एक मैच के दौरान उन्होंने चेल्सी के खिलाड़ी ब्रैनिस्लाव इवानोविच की बाँह पर दाँत काट लिया था.

  • 24 मैचों की पाबंदी (या दो साल) अधिकतम. अगर फ़ीफ़ा उन्हें विश्व कप 2014 के मैच के दौरान इटली के जॉर्जो किएलिनी को दाँत काटने का दोषी मानती है.

GETTY

सुआरेज़ का बचाव

दोनों खिलाड़ियों के बीच हुई टक्कर के बाद सुआरेज़ जमीन पर अपना मुंह पकड़ कर बैठ गए थे. वे इशारा कर रहे थे कि उनके मुंह पर कंधा मारा गया.

दूसरी ओर 29 साल के किएलीनी ने मैच रेफ़री मार्को रोड्रिगेज़ की ओर भागकर उन्हें कंधे पर काटे जाने का निशान दिखाया.

फ़ीफ़ा की प्रवक्ता ने बीबीसी स्पोर्ट्स से कहा, "हम मामले के सभी पहलूओं को एकत्रित कर रहे हैं."

फ़ीफ़ा कोई जांच शुरू करने से पहले रेफ़री की रिपोर्ट को देखेगी. वैसे फ़ीफ़ा के पास मैच अधिकारी की नज़रों से छूट गए मामले में भी सज़ा सुनाने का अधिकार है.

अगर सुआरेज़ दोषी पाए गए तो उन पर 24 मैचों या फिर दो साल की पाबंदी लग सकती है.

वर्ल्ड कप के इतिहास में सबसे लंबी पाबंदी आठ मैचों की है, जो 1994 में स्पेन के खिलाड़ी लुइस एनरीक की नाक तोड़ने के लिए इटली के मार्रो तासोटी पर लगी थी. 2006 वर्ल्ड कप के फ़ाइनल मुक़ाबले में मार्को मतरात्ज़ी को सिर से टक्कर मारने के चलते ज़िनेदिन ज़िदान पर तीन मैचों की पाबंदी लगी थी.

पुरानी आदत

हालांकि सुआरेज़ पहले भी इन आरोपों के तहत सज़ा भुगत चुके हैं. अप्रैल, 2013 में प्रीमियर लीग के एक मैच के दौरान ब्रायनस्लेव इवानोविच को दांत से काटने पर लिवरपुल के खिलाड़ी सुआरेज़ पर दस मैचों की पाबंदी लगाई गई थी.

इससे पहले 2010 में विपक्षी खिलाड़ी को काटने के आरोप पर सुआरेज पर सात मैचों की पाबंदी लगाई गई थी.

2013 में प्रीमियर लीग के एक मैच के दौरान ब्रायनस्लेव इवानोविक को दांत काटने के आरोप में सुआरेज़ पर दस मैचों की पाबंदी लगी थी.

फ़ीफ़ा के उपाध्यक्ष जिम बॉयस ने कहा, "लुई सुआरेज़ एक शानदार खिलाड़ी हैं, इसमें कोई संदेह नहीं है. लेकिन उनके कारनामों के चलते उनकी आलोचना हो रही है. फ़ीफ़ा को इस मामले में गंभीरता से जांच करनी चाहिए और जरूरत पड़ने पर सुआरेज़ के ख़िलाफ़ सख़्त फ़ैसला लेना चाहिए."

फ़ीफ़ा के मेडिकल कमीशन के चेयरमैन माइकल डहूगे के मुताबिक इस मामले में सुआरेज़ को सज़ा मिल सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार