मेरी नज़रें रियो ओलंपिक्स पर हैं: मेरीकॉम

  • 19 दिसंबर 2013
मेरीकॉम और अमिताभ बच्चन
मुंबई में अमिताभ बच्चन ने ही मेरीकॉम की आत्मकथा का विमोचन किया

पांच बार की बॉक्सिंग विश्व चैंपियन रह चुकी एमसी मेरीकॉम का अगला लक्ष्य साल 2016 में होने वाले रियो ओलंपिक खेलों में पदक जीतने का है.

लंदन ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली मेरीकॉम ने सात महीने पहले ही अपने तीसरे बेटे को जन्म दिया है.

तो एक बार फिर मां बनने के बाद क्या मेरीकॉम ओलंपिक जैसे बड़े मुकाबले के लिए खुद को तैयार कर पाएंगी?

अगर मेरीकॉम की माने तो उन्होंने अभी से अपनी कमर कस ली है. वो मानती हैं कि मातृत्व का मतलब ये बिलकुल नहीं हैं कि अपने लक्ष्य से नज़रें फेर ली जांए.

बीबीसी से हुई एक बातचीत के दौरान मेरीकॉम ने बताया कि कैसे अपने तीसरे बेटे के जन्म के एक महीने बाद ही उन्होंने अभ्यास शुरु कर दिया था.

मेरीकॉम कहती हैं, ''रियो ओलंपिक्स को लेकर मेरे इरादे मज़बूत हैं. मैं अगले ओलंपिक्स में हिस्सा लेना चाहती हूं. मैंने अपनी ट्रेनिंग शुरु भी कर दी है. क्रिसमस और नए साल के उत्सव के बाद मैं अपनी ट्रेनिंग को और कड़ा करने वाली हूं.''

लेकिन क्या मां बनने के बाद कुछ बदला नहीं है मेरीकॉम के लिए?

मेरीकॉम और अमिताभ बच्चन
विमोचन के मौके पर मेरीकॉम के सात महीने के बेटे प्रिंस भी मौजूद थे

बीबीसी के इस सवाल के जवाब में वो कहती हैं, ''मां बनने के बाद मेरे शरीर में जो भी बदलाव आए हैं उनसे लड़ना मेरे लिए कोई बड़ी बात नहीं है. मैं अपने शरीर को जानती हूं और ये भी जानती हूं कि किस तरह कि कसरत मेरे लिए अच्छी है.''

इतना ही नहीं मेरीकॉम तो ये भी कहती हैं कि एक मां होने के बाद भी अगर वो पांच बार विश्व चैपियन बन सकती हैं और ओलंपिक पदक जीत सकती हैं तो बाकि लड़कियां ऐसा क्यों नहीं कर सकती.

वो कहती हैं, ''लोगों को लगता है कि मां बनने के बाद एक खिलाड़ी विश्व चैंपियन नहीं बन सकती. लेकिन अगर हमारे अंदर जीत की भूख है तो कुछ भी हासिल करना असंभव नहीं है. हां मैं एक मां हूं लेकिन इससे मैं मेहनत करना तो नहीं छोड़ सकती. सपने देखना तो नहीं छोड़ सकती. जीतना तो नहीं छोड़ सकती.''

मेरीकॉम ये भी मानती हैं कि जीत के लिए बड़े त्याग करने पड़ते हैं और इसमें आपके परिवार की भी अहम भूमिका होती है.

वो कहती हैं, ''मेरे परिवार ने हमेशा मेरा साथ दिया है और मेरे इरादे भी बुलंद हैं. और इसी वजह से मां बनने के बाद भी मैं विश्व चैंपियन बन पाई.''

हाल ही में मेरीकॉम ने अपनी आत्मकथा 'अनब्रेकेबल' रिलीज़ की है. मेरीकॉम चाहती हैं कि उनकी जीवनी से नौजवान लड़कियां प्रेरणा लें.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित समाचार