भारत के अंतिम 11 में किसकी जगह पक्की?

  • 27 सितंबर 2013

इन दिनों भारत में क्रिकेट की बहार आई हुई है. एक तरफ जहां चैंपियंस लीग टवेंटी-टवेंटी के मुक़ाबले प्रगति पर है तो दूसरी तरफ गुरुवार से एनकेपी साल्वे चैलेंजर ट्रॉफी के मैच भी शुरू हो गए. इसके साथ ही भारत के क्रिकेट का घरेलू सत्र भी शुरू हो गया.

इसके अलावा भारत ए और वेस्टइंडीज़ ए के बीच भी चार दिवसीय मैचों की सिरीज़ खेली जा रही है. इसके तहत दोनों टीमें तीन मैच खेलेंगी.

एनकेपी चैलेंजर ट्रॉफी का फ़ाइनल 29 तारीख़ को खेला जाएगा. इसमें दिल्ली, इंडिया ब्लू और इंडिया रेड यानि तीन टीमें भाग ले रही हैं.

जब इतने सारे मैच खेले जाएंगे तो ज़ाहिर है कि एक ही समय में लगभग सारे खिलाड़ी मैदान में नज़र आएंगे और ऐसा ही हो भी रहा है.

चैंपियंस लीग में महेन्द्र सिंह धोनी, रोहित शर्मा, शिखर धवन, इशांत शर्मा, आर अश्विन, मुरली विजय, सुरेश रैना जैसे धुरंधर अपनी अपनी टीमों को चैंपियन बनाने के लिए संधर्ष कर रहे है.

चयनकर्ताओं की पसंद

वहीं एनकेपी साल्वे चैलेंजर ट्रॉफी में विराट कोहली, विरेंद्र सहवाग, परविंदर अवाना, युवराज सिंह, रोबिन उथप्पा, अभिषेक नायर, भुवनेश्वर कुमार, आर विनय कुमार, युसुफ पठान, उमेश यादव खेल रहे है.

इन सभी खिलाड़ियों का एकमात्र उद्देश्य चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करना है जो 30 सितंबर को भारत दौरे पर आने वाली ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के ख़िलाफ भारतीय टीम का चयन करेंगे.

उल्लेखनीय है कि ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत में सात एकदिवसीय मैचो की सिरीज़ खेलेगी. अब शिखर धवन ने तो चैंपियंस लीग के शुरूआती मैचों में अपनी फॉर्म और फिटनेस साबित कर दी है तो युवराज सिंह ने भी वेस्टइंडीज़ ए के खिलाफ मिले अवसरो का पूरा लाभ उठाते हुए तीन एकदिवसीय मैचो की अनधिकृत सिरीज़ में एक शतक और एक अर्धशतक जमाया.

इसके साथ ही उन्होने टीम में वापसी का अपना दावा भी मज़बूती से पेश कर दिया है. वैसे सबकी नज़रे विरेंद्र सहवाग और युसूफ पठान जैसे खिलाडियों पर भी है.

युसूफ पठान वेस्टइंडिज़ ए के ख़िलाफ तो कुछ अधिक नही चमके लेकिन अभी भी उनके पास चैलेंजर ट्रॉफी में कुछ कर दिखाने के अवसर है.

सहवाग की वापसी?

दूसरी तरफ विरेंद्र सहवाग दिल्ली के लिए खेलते हुए इंडिया ब्लू के खिलाफ गुरूवार को अर्धशतक जमाने में तो कामयाब रहे लेकिन बल्लेबाज़ी क्रम में वो चार नम्वर पर उतरे.

इस मैच में उनकी टीम को 18 रनों से हार का सामना भी करना पड़ा. अब सहवाग के मिडिल ऑर्डर में उतरने से यह बहस भी रोचक हो जाएगी कि अगर चैलेंजर ट्रॉफी में अगले मैचो में भी वह बतौर ओपनर नही खेले और रन बनाने में कामयाब हुए तो चयनकर्ता उन्हे टीम के किस नम्बर पर जगह दे.

वैसे भी टीम में जब अधिकतर खिलाडियों की जगह लगभग पक्की हो तो दो-तीन खिलाडियों के लिए ही रोमांचक संधर्ष है.

देखना है कि 29 तारीख तक यह खिलाड़ी अपनी फार्म और फ़िटनेस कैसी दिखाते है और 30 तारीख को जब भारतीय टीम घोषित होगी तो उसमें किसे जगह मिलती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)