BBC navigation

'वरना क्रिकेटरों की इज़्ज़त घट जाएगी'

 मंगलवार, 6 अगस्त, 2013 को 02:33 IST तक के समाचार
राहुल द्रविड़

पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान राहुल द्रविड़ ने आईपीएल स्पॉट फ़िक्सिंग विवाद और इसके नतीजों पर गहरी नाराज़गी जताई है. उनका कहना है कि क्रिकेट की साख को फिर से स्थापित करना सबसे ज़्यादा ज़रूरी है वरना प्रशंसकों की नज़र में क्रिकेटरों की इज़्ज़त घट जाएगी.

बीसीसीआई पिछले कुछ समय से क्लिक करें स्पॉट फ़िक्सिंग और सट्टेबाज़ी के विवाद के कारण विश्वसनीयता का संकट झेल रहा है. ये विवाद छठे आईपीएल के आयोजन के दौरान उपजा था.

इस मामले के उजागर होने के बाद बीसीसीआई अध्यक्ष क्लिक करें एन श्रीनिवासन को अपने पद से हटना पड़ा था. मामले की जांच के लिए दो सदस्यीय पैनल का गठन भी किया गया था.

'साख बहुत अहम है'

राहुल द्रविड़ आईपीएल फि़क्सिंग

द्रविड़ ने एक वेबसाइट पर कहा है, "ऐसी चीज़ों से कोई मदद नहीं मिलती जब हम अख़बारों के पिछले नहीं बल्कि पहले पन्नों पर होते हैं".

उन्होने कहा, "बहुत से ऐसे प्रशंसक हैं और बहुत से लोग इस खेल को लेकर काफ़ी चिंतित हैं और इन्हीं प्रशंसकों की बदौलत हम वो हैं जो हम क्रिकेटरों को होना चाहिए. प्रशासक इन्हीं प्रशंसकों और क्रिकेटरों की वजह से हैं और इसलिए इस खेल या बोर्ड की साख यहां तक कि सरकार की साख बहुत अहम है, चाहे आप जो करें. अगर आप सार्वजनिक जीवन में हैं तो यह बहुत ज़रूरी है".

क्लिक करें बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन पिछले दिनों एक विवाद में फंस गए थे जब उनके दामाद गुरुनाथ मैयप्पन और राजस्थान रॉयल्स टीम के सह मालिक क्लिक करें राज कुंद्रा पर सट्टेबाज़ी के आरोप लगे थे.

राहुल द्रविड़ के नेतृत्व वाली टीम राजस्थान रॉयल्स के तीन खिलाड़ियों को स्पॉट फ़िक्सिंग के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था.

द्रविड़ के मुताबिक़, "क्रिकेटरों के लिए सम्मान और प्यार कुछ न कुछ कम ज़रूर हुआ है और मुझे लगता है कि इस देश में क्रिकेट के साथ अगर ऐसा होता है तो यह बहुत ही दुखदायी है".

पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर का कहना है कि क्रिकेट बोर्ड के प्रशासक ऐसे संकट के वक़्त सही ढंग से नहीं निपटते, जबकि वो जानते हैं कि चाहे जो हुआ हो, प्रशंसकों ने कभी भी उनसे मुंह नहीं मोड़ा. हालांकि उनका कहना है कि खेल के नए प्रशंसक आज भारतीय क्रिकेट से कुछ ज़्यादा उम्मीद रखते हैं.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.