स्पॉट फ़िक्सिंग मामले पर धोनी की चुप्पी

  • 28 मई 2013
धोनी

चैम्पियंस ट्रॉफ़ी के लिए इंग्लैंड रवाना हो रही भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आईपीएल में स्पॉट फ़िक्सिंग के मामले में चुप्पी साध रखी है.

इंग्लैंड रवाना होने से पहले प्रेस कॉन्फ़्रेंस में पत्रकारों ने कई बार आईपीएल में स्पॉट फ़िक्सिंग को लेकर सवाल पूछे, लेकिन महेंद्र सिंह धोनी ने कुछ नहीं कहा.

बीसीसीआई के मीडिया प्रबंधन से जुड़े अधिकारी पत्रकारों को ये निर्देश दे रहे थे कि ये प्रेस कॉन्फ़्रेंस आईपीएल के बारे में नहीं है और न ही महेंद्र सिंह धोनी इस समय आईपीएल की चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान के रूप में यहाँ आए हैं.

अधिकारियों ने कहा कि भारतीय टीम के लिए आचार संहिता है और धोनी से स्पॉट फ़िक्सिंग के बारे में कुछ भी न पूछा जाए.

लेकिन धोनी ने आईपीएल फ़ाइनल से पहले प्रेस कॉन्फ़्रेंस में भी हिस्सा नहीं लिया था. फ़ाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम मुंबई इंडियंस से हार गई थी.

स्पॉट फ़िक्सिंग

चंडीला, श्रीसंत और अंकित चव्हाण

स्पॉट फ़िक्सिंग के आरोप में तीन क्रिकेटरों की गिरफ़्तारी के बाद आईपीएल-6 विवादों के घेरे में आ गया था.

आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स के तीन खिलाड़ी एस श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंडीला को दिल्ली पुलिस ने गिरफ़्तार किया था. हालाँकि श्रीसंत इन आरोपों से इनकार करते हैं.

इसके बाद मुंबई पुलिस ने सट्टेबाज़ों से संबंध के आरोप में विंदू दारा सिंह को गिरफ़्तार किया.

विंदू दारा सिंह से पूछताछ के बाद बीसीसीआई के प्रमुख एन श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मेयप्पन को भी मुंबई पुलिस ने गिरफ़्तार किया.

विंदू दारा सिंह की पत्नी ने भी अपने पति पर लगे आरोपों को ख़ारिज किया है.

हालाँकि इंडिया सीमेंट्स ने बयान जारी करके ये स्पष्ट किया कि गुरुनाथ मेयप्पन चेन्नई सुपर किंग्स के मालिक नहीं हैं और न ही वे टीम प्रिंसिपल हैं, वे सिर्फ़ टीम के मानद सदस्य हैं.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)