BBC navigation

एक फुटबॉल मैच का स्कोर: 43-0

 मंगलवार, 12 मार्च, 2013 को 16:52 IST तक के समाचार

मौजूदा सीज़न में कैरफिले कैस्ले लेडीज़ क्लब को लगातार हार का सामना करना पड़ा

किसी फ़ुटबॉल मैच के दौरान जब करीब दो मिनट के अंतराल पर गोल होने लगे तो उसे गोलों की बरसात ही कहेंगे.

वीमेंस वेल्स प्रीमियर लीग में हुए मुकाबले में यही देखने को मिला. कार्डिफ़ मेट्रो यूनिवर्सिटी की टीम ने कैरफिले कैस्ले लेडीज़ फ़ुटबॉल क्लब को 43-0 से धो डाला.

इस लीग में कैरफिले कैस्ले लेडीज़ टीम को कोई पहली बार करारी हार का सामना नहीं करना पड़ा है.

इससे पहले टीम 36-0, 28-0 और 26-0 के अंतर से मैच हार चुकी है.

पिछले दस मैचों में टीम 219 गोल खा चुकी है और अब तक महज एक बार विपक्षी टीम के खिलाफ गोल कर सकी.

चैंपियन टीम का हाल

इसके बावजूद भी टीम के मनोबल पर असर नहीं पड़ा है. टीम की चेयरवूमेन जूली बॉयस ने भरोसा जताया है कि टीम काफी मजबूत होकर वापसी करेगी.

उन्होंने कहा, “ये काफी मुश्किल वक्त है. अगर ये ऐसा ही रहा तो क्लब के भविष्य पर असर पड़ेगा. लेकिन हम वापसी करेंगे.”

टीम का ये हाल तब है जब पिछले दो वेल्स प्रीमियर लीग के दौरान टीम का प्रदर्शन ठीक ठाक रहा है और 2010 में तो टीम चैंपियन बनी थी.

वापसी का भरोसा

"ये काफी मुश्किल वक्त है. अगर ये ऐसा ही रहा तो क्लब के भविष्य पर असर पड़ेगा. लेकिन हम वापसी करेंगे."

जूली बॉयस, चेयरवूमेन, कैस्ले लेडीज़ फ़ुटबॉल क्लब

लेकिन इस सीज़न में टीम को लगातार शर्मनाक हार का सामना करना पड़ रहा है. केरेनॉरफन टाउन के ख़िलाफ़ हुए मुकाबले में टीम एकमात्र गोल बना पाई, लेकिन इस मुकाबले में भी उसे 14-1 से हार का सामना करना पड़ा.

टीम का प्रदर्शन कैसे सुधरेगा. इस पर बॉयस कहती हैं, “हमें अंडर -16 की टीम से कुछ खिलाड़ियों को टीम में शामिल करना होगा. हमें दीर्घकालीन रणनीति पर काम करना होगा. तब हम हम अगले कुछ सालों में मज़बूत टीम के तौर पर उभर कर सामने आ सकते हैं.”

टीम प्रबंधन लगातार शर्मनाक हार के बीच नए खिलाड़ियों को टीम से जोड़ने के विकल्प पर भी विचार कर रहा है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.