वर्ल्ड हॉकी लीग में कितना दम दिखाएगा भारत

  • 18 फरवरी 2013
हॉकी
हॉकी लीग के बाद भारतीय खिलाड़ियों के हौसले बुलंद है

भारत में सोमवार से हॉकी वर्ल्ड लीग का दूसरा दौर शुरू हो रहा है जिसमें पुरूष और महिला वर्ग में भारत सहित छह छह टीमें हिस्सा लेंगी.

पुरूष वर्ग में भारत के अलावा चीन, आयरलैंड, बांग्लादेश, ओमान और फिजी शामिल हैं जबकि महिला वर्ग में मेजबान भारत के साथ साथ जापान, रूस, मलेशिया, कजाकिस्तान और फिजी की टीम भाग ले रही हैं.

ये टूर्नामेंट अगले साल होने वाले विश्व कप हॉकी टूर्नामेंट में भाग लेने के लिए क्वॉलिफाइंग प्रक्रिया का महत्वपूर्ण हिस्सा है. भारत के अलावा ये टूर्नामेंट ब्राजील, फ्रांस और रूस में भी हो रहा है.

भारत की तैयारी

भारतीय पुरूष टीम के कप्तान सरदार सिंह का कहना है कि हाल में हुई हॉकी लीग में दुनिया के बेहतरीन खिलाड़ियों के साथ खेल कर भारतीय खिलाड़ियों का आत्मविश्वास बढ़ा है.

उन्होंने बीबीसी से कहा, “सभी भारतीय खिलाड़ियों ने जिस तरह से हॉकी इंडिया लीग में खेला, अगर वो वैसा ही इस लीग में खेलेंगे तो मुझे उम्मीद है कि हम अच्छे स्कोर से जीतेंगे.”

सरदार सिंह का कहना है कि बेशक इस टूर्नामेंट के दौरान दबाव तो रहेगा और किसी भी टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता है, लेकिन उनकी तैयारी पूरी है.

भारतीय महिला टीम की कप्तान रितु रानी भी कहती हैं कि वो इस टूर्नाटमेंट के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. उनका कहना है कि जापान की टीम से मुकाबला कड़ा रहेगा.

उन्होंने कहा, “जापान रैंक में हमसे ऊपर है, लेकिन अगर हम लोग अच्छा प्रदर्शन करेंगे, तो अच्छा नतीजा दे पाएंगे. बाकी मैच की परिस्थितियों पर निर्भर करेगा.”

भारत सिर्फ एक बार 1975 में अजित पाल सिंह की कप्तानी में विश्व चैंपियन बना था.