BBC navigation

कैप्टन कुक का भारत को मुँहतोड़ जवाब

 शनिवार, 24 नवंबर, 2012 को 22:15 IST तक के समाचार

पनेसर ने पांच विकेट लिए, स्वॉन को चार विकेट मिले.

मुंबई टेस्ट मैच के दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने दो विकेट खोकर 178 रन बना लिए हैं.

इससे पहले क्लिक करें भारत की पहली पारी 327 रनों पर सिमट गई.

इंग्लैंड के कप्तान एलिस्टेयर कुक एक बार फिर अपनी टीम के लिए हीरो साबित हुए. खेल खत्म होने तक वो 87 रन पर नाबाद थे. कुक का साथ केविन पीटरसन बखूबी निभा रहे हैं और 62 पर खेल रहे हैं.

इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज़ कुक और कॉंप्टन ने अच्छी शुरुआत की और इंग्लैंड का पहला विकेट 66 रनों पर गिरा जब कॉंप्टन प्रज्ञान ओझा की गेंद पर सहवाग को कैच थमा बैठे.

इसके तुरंत बाद ओझा ने ट्रॉट को शुन्य पर चलता किया और इंग्लैंड 68 रन पर दो विकेट गंवा दिए.

यहां पर भारतीय स्पिनरों के पास मौका था कि वो दबाव बनाए लेकिन कुक और पीटरसन संभल कर खेले, मौका देखकर आक्रामक शॉट भी लगाए. इस जोड़ी ने तीसरे विकेट के लिए अब तक 110 रन जोड़ लिए हैं.

पनेसर के पांच विकेट

शनिवार सुबह भारत ने 2 क्लिक करें 66/6 के स्कोर से आगे खेलना शुरु किया. चेतेश्वर पुजारा 135 रनों पर आउट हुए जबकि रविचंद्रन अश्विन ने 68 रन बनाए.

पुजारा और अश्विन ने पिछले दिन की तरह संभल कर खेलना शुरु किया. दोनों ने सातवें विकट के लिए 111 रन जोड़े जब अश्विन पनेसर की गेंद पर पगबाधा आउट हो गए.

इसके बाद हरभजन सिंह ने पुजारा का अच्छा साथ दिया और दोनों ने मिलकर भारतीय स्कोर को 300 के पार कर दिया. हरभजन 21 रन पर ऑफ स्पिनर ग्रेम स्वॉन का शिकार बने.

इसके बाद स्वॉन ने पुजारा का कीमती विकेट भी हासिल किया. पुजारा 135 रन बनाकर स्टंप आउट हो गए.

भारतीय पारी 327 पर खत्म हुई. इंग्लैंड के लिए पनेसर ने पांच और स्वॉन ने चार विकेट लिए.

लंच पर इंग्लैंड का स्कोर था बिना कोई विकेट खोए छह रन.

पुजारा का शतक

इससे पहले क्लिक करें चेतेश्वर पुजारा की शानदार नाबाद शतकीय पारी की बदौलत भारत ने मैच के पहले दिन अपनी पहली पारी में छह विकेट के नुकसान पर 266 रन बना लिए.

पहले दिन का खेल खत्म होने से पहले चेतेश्वर पुजारा 114 रन और आर अश्विन 60 रन बनाकर क्रीज पर थे.

भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया लेकिन इंग्लैंड की टीम के स्पिनर मोंटी पनेसर की फिरकी में टीम इंडिया के कई बल्लेबाज चक्कर खा गए.

इसके बावजूद युवा बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा पिच पर डटे रहे और एक बार फिर उन्होंने शतकीय पारी खेल डाली.

लंच के बाद पिच पर चेतेश्वर पुजारा ने अपना जलवा दिखाते हुए शतक पूरा किया. ये बात अलग है कि सहवाग और आर अश्विन के अलावा और कोई बल्लेबाज उनका ठीक से साथ नहीं दे सका.

पुजारा ने अपने करियर का तीसरा टेस्ट शतक लगाया.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.