फ़िक्सिंग में 'फंसा' टी-20 वर्ल्ड कप, जांच शुरू

  • 9 अक्तूबर 2012
वेस्ट इंडीज
इस बार वेस्ट इंडीज बना वर्ल्ड चैंपियन

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने हाल ही में श्रीलंका में हुए टी-20 वर्ल्ड कप से जुड़े मैच फ़िक्सिंग के ताज़ा आरोपों की तुरंत जांच शुरू कर दी है.

भारत के एक निजी समाचार चैनल 'इंडिया टीवी' ने अपने एक स्टिंग ऑपरेशन में आरोप लगाया है कि छह एंपायर टी-20 वर्ल्ड कप के मैच फ़िक्स करने को तैयार थे. चैनल ने ये स्टिंग ऑपरेशन सोमवार को प्रसारित किया.

आईसीसी ने इंडिया टीवी से उसके पास मौजूद सबूत भी मांगे हैं ताकि जांच में उनसे मदद मिल सके.

लेकिन साथ ही आईसीसी ने कहा, "जिन एंपायरों पर आरोप लगाए गए हैं, उनमें से किसी ने भी टी-20 वर्ल्ड कप के आधिकारिक मैचों में एंपायरिंग नहीं की थी."

इंडिया टीवी ने जिन एंपायरों पर फ़िक्सिंग के आरोप लगाए हैं वे श्रीलंका, पाकिस्तान और बांग्लादेश से बताए जाते हैं. चैनल का आरोप है कि ये एंपायर पैसे लेकर मैच फ़िक्स करने के इच्छुक थे.

'भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं'

रविवार को ख़त्म हुए टी-20 वर्ल्ड कप में वेस्ट इंडीज़ ने फ़ाइनल मुक़ाबले में मेज़बान श्रीलंका को 36 रनों से हराकर ख़िताब जीता था.

चैनल के मुताबिक़ एक सातवें एंपायर से भी स्टिंग ऑपरेशन के दौरान संपर्क किया गया था लेकिन उन्होंने इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया.

इंडिया टीवी का कार्यक्रम प्रसारित होने के बाद आईसीसी ने बयान जारी कर कहा, “आईसीसी और उसके संबंधित सदस्य इंडिया टीवी की तरफ़ से लगाए गए आरोपों से अगवत हुए हैं और हम चैनल से अपील करते हैं कि जो भी सबूत उसके पास हैं, वो उन्हें सौंपे ताकि इस मामले में जो अत्यावश्यक जांच शुरू हुई है उसमें मदद मिल सके.”

इस बयान में आगे कहा गया है, “आईसीसी भ्रष्टाचार को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगी, चाहे आरोप खिलाड़ियों के ख़िलाफ़ हो या अधिकारियों के ख़िलाफ़.''

आईसीसी ने कहा कि फ़िलहाल वो इस मुद्दे पर और कुछ नहीं कहेगी.