मशहूर साइकिलिस्ट आर्मस्ट्रांग के खिताब 'छीने' गए

 शुक्रवार, 24 अगस्त, 2012 को 22:45 IST तक के समाचार
लांस आर्मस्ट्रांग

लांस आर्मस्ट्रांग ने सात बार प्रतिष्ठित टुअर डी फ्रांस का खिताब जीता था

अमरीका की एंटी डोपिंग एजेंसी ने सात बार टुअर डी फ्रांस प्रतियोगिता जीतकर साइकिल रेस के रोमांच को दुनियाभर में फैलाने वाले लांस आर्मस्ट्रांग के सभी खिताब छीनने और उन पर पाबंदी लगाने की घोषणा की है.

अभी अंतरराष्ट्रीय साइकिलिस्ट यूनियन (यूसीआई) ने इस बारे में कोई बयान नहीं दिया है. अब देखना ये है कि क्या यूनियन अमरीकी एंटी डोपिंग एजेंसी की तरह ही कोई फैसला करता है या नहीं.

लांस आर्मस्ट्रांग पर रेस में बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रतिबंधित दवाओं और स्टेरॉयड्स का सेवन करने के आरोप है.

वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी का कहना है कि साइकिलिस्ट लांस आर्मस्ट्रांग ने शक्ति-वर्धक दवाओं का सेवन किया था.

क्लिक करें पढ़ें-आर्मस्ट्रॉंग: कैंसर से लड़ने की जिसने दी प्रेरणा

इनकार

हांलाकि एक वर्ष पहले संन्यास ले चुके लांस आर्मस्ट्रांग ने इन आरोपों से इनकार किया है.

वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (यूएसएडीए) ने ये घोषणा लांस आर्मस्ट्रांग के उस बयान के बाद की जिसमें उन्होंने कहा था कि वो अब डोपिंग के मामले में अपना बचाव नहीं करेंगे. क्योंकि दस साल से इस मामले में अपना पक्ष रखते-रखते वो थक चुके हैं.

लांस आर्मस्ट्रांग का कहना है कि वो पूरी तरह निर्दोष हैं लेकिन अपने बचाव की लड़ाई को अब विराम देना चाहते हैं क्योंकि इससे उन्हें और उनके परिवार को काफी दुख पहुंच रहा है.

आर्मस्ट्रांग ने 2011 में खेल से औपचारिक रुप से संन्यास ले लिया है.

यूएसएडीए का कहना है कि आर्मस्ट्रांग 1996 से प्रतिबंधित दवाएं ले रहे थे जिनमें रक्त का प्रवाह बढ़ाने वाले स्टेरॉयड्स शामिल हैं. यूएसएडीए के मुताबिक आर्मस्ट्रांग ने साइकिल प्रतियोगिता में भाग लेने वाले खिलाड़ियों में भी डोपिंग को बढ़ावा दिया.

संस्था के मुताबिक कई खिलाड़ी लांस आर्मस्ट्रांग के खिलाफ बोलने को तैयार हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.