ओलंपिक ट्रैक पर दौड़ेंगे ऑस्कर पिस्टोरियस

 गुरुवार, 5 जुलाई, 2012 को 22:23 IST तक के समाचार
पिस्टोरियस

पिस्टोरियस ओलंपिक्स में 400 मीटर की एकल दौड़ प्रतियोगिता और रिले रेस में हिस्सा लेंगे.

दक्षिणी अफ्रीकी मूल के एथलीट ऑस्कर पिस्टोरियस कृत्रिम अंगो के साथ ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने वाले पहले खिलाड़ी बनेंगे.

दक्षिणी अफ्रीकी चयनकर्ताओं ने ऑस्कर पिस्टोरियस का चुनाव 400 मीटर की रिले दौड़ प्रतियोगिता के लिए किया है.

इसके अलावा पिस्टोरियस 400 मीटर की एकल दौड़ प्रतियोगिता में भी हिस्सा लेंगे.

पच्चीस साल के एथलीट ऑस्कर पिस्टोरियस ने इसे अपने जीवन का सबसे गौरवान्वित क्षण बताया है. उन्होंने कहा, ''ये मेरे लिए काफी सम्मान की बात है, मैं इस बात से बेहद खुश हूं कि मेरी सालों की मेहनत, त्याग और दृढ़ता आज सफल हुई है.''

पिस्टोरिया का जन्म जोहान्नसबर्ग में हुआ था और मात्र 11 महीने की उम्र में चिकित्सीय कारणों के कारण उनके दोनों पैरों को घुटने के नीचे से काटना पड़ा था, क्योंकि उनके पैरों के निचले हिस्से में हड्डियां नहीं थी.

काबिलियत

पिस्टोरियस के चुनाव के बाद साउथ अफ्रीका स्पोर्ट कनफेडेरेशन एंड ओलंपिक कमिटी के अध्यक्ष गिडियॉन सैम ने कहा, ''मैं पहले भी कह चुका हूं कि हम सवारियों को लेकर लंदन नहीं जा रहे हैं. हम जिन्हें भी वहां लेकर जा रहे हैं उन्होंने एक चुनाव प्रक्रिया को पूरा किया है और ओलंपिक में भाग लेने के काबिल हैं.''

"मैं पहले भी कह चुका हूं कि हम सवारियों को लेकर लंदन नहीं जा रहे हैं, हम जिन्हें भी वहां लेकर जा रहे हैं उन्होंने एक चुनाव प्रक्रिया को पूरा किया है और ओलंपिक में भाग लेने के काबिल हैं."

गिडियॉन सैम, अध्यक्ष, दक्षिण अफ्रीका ओलंपिक कमिटी

पिस्टोरियस पैरालिंपिक्स खेलों में भी हिस्सा ले सकेंगे. वे 100 मीटर, 200 मीटर, 400 मीटर एवं 100 मीटर रिले रेस में प्रतियोगिता में भी शामिल होंगे.

ऑस्कर को उनके नकली पैंरों की वजह से 'ब्लेड रनर' के नाम से जाना जाता है.

पिस्टोरियस ओलंपिक प्रतियोगिता में भाग लेने वाले ऐसे पहले एथलीट होंगे जो कृत्रिम अंगों का इस्तेमाल करते हैं.

उनका कहना है, ''आने वाला समय मेरे लिए काफी कुछ अच्छा लेकर आ रहा है और मैं बड़ी बेसब्री से उम्मीद कर रहा हूं कि लंदन में होने ओलंपिक और पैरालिंपिक प्रतियोगिताओं में मेरा प्रदर्शन अच्छा होगा.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.