फ़ाइनल में पिट गया भारत

हाँकी

आस्ट्रेलिया ने भारत को करारी मात दी

राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने की भारतीय हॉकी टीम के मंसूबे पर पानी फिर गया.

ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ फ़ाइनल मैच में भारतीय टीम की बुरी शिकस्त हुई. एकतरफ़ा मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 8-0 से पीट दिया.

मैच के शुरुआती कुछ मिनटों को छोड़ दिया जाए तो भारतीय टीम मैच में नज़र ही नहीं आई.

न खिलाड़ियों में ताल-मेल दिख रहा था और न वो तेज़ी. नतीजा एक के बाद एक गोल.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी और खेल मंत्री एमएस गिल की मौजूदगी में भारतीय टीम की ख़ूब भद्द पिटी.

गोल की मांग कर रहे और देशभक्ति का नारा लगा रहे दर्शकों को निराशा हाथ लगी और भारतीय टीम एक भी गोल नहीं कर पाई.

स्वर्ण पदक के इस अहम मुक़ाबले में भारतीय टीम ने शुरू से ही तेज़ी से कई आक्रमण किए. लेकिन गोल करने में वे नाकाम रहे.

ख़राब खेल

मैच का पहला पेनल्टी भी भारत को मिला, लेकिन संदीप सिंह उस पर शॉट भी नहीं लगा पाए.

बीस मिनट के बाद ऑस्ट्रेलिया कैंप में जैसे तेज़ी आ गई. भारतीय डिफेंस को उन्होंने आसानी से भेदना शुरू कर दिया.

फिर तो जैसे गोलों की बरसात हो गई. हाफ़ टाइम तक ऑस्ट्रेलिया की टीम 4-0 से आगे थी.

दूसरे हाफ़ में भी भारतीय खिलाड़ी अपनी कमी से पार न पा सके. वही ग़लतियाँ, ताल-मेल की कमी और नतीजा ऑस्ट्रेलिया को फ़ायदा.

दूसरे हाफ़ में भी ऑस्ट्रेलिया ने चार गोल किए और इस तरह 8-0 से भारत को शिकस्त देकर ऑस्ट्रेलिया ने स्वर्ण पदक पर क़ब्ज़ा कर लिया.

भारत को रजत पदक से संतोष करना पड़ा.

इससे पहले कांस्य पदक के लिए हुए मैच में न्यूज़ीलैंड ने इंग्लैंड को हरा दिया. निर्धारित समय में दोनों टीमें 3-3 से बराबर थी.

अतिरिक्त समय में भी कुछ अंतर नहीं पड़ा. टाई ब्रेकर में न्यूज़ीलैंड ने 5-4 से जीत हासिल कर कांस्य पदक जीता

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.