रिश्वत के आरोप पर तीखी प्रतिक्रिया

सुरेश कलमाडी

खेलों की आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाड़ी ने दावा किया कि खेल सफल होंगे

पूर्व खेल मंत्री मणिशंकर अय्यर ने आरोप लगाया है कि राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन हासिल करने के लिए भारत ने राष्ट्रमंडल देशों की ओलंपिक समिति को एक-एक लाख डॉलर रिश्वत के तौर पर दिए थे.

अय्यर ने साथ ही खेलों की विफलता की भी कामना की है.

खेलों की आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाड़ी ने अय्यर के इस बयान पर नाराज़गी जताते हुए उनसे बतौर सांसद अपनी ज़िम्मेदारी समझने के लिए कहा है.

राष्ट्रमंडल खेलों के सिलसिले में अब तक तो किसी स्टेडियम का कोई हिस्सा गिर जाने या काम समय से पूरा नहीं होने की ही शिकायत सुनी जा रही थी पर अब उसमें पूर्व खेल मंत्री मणिशंकर अय्यर ने एक नया आयाम जोड़ दिया है.

राष्ट्रमंडल खेलों का बेड़ा गर्क होगा क्योंकि मैं समझता हूँ कि अगर ये खेल सफल हो गए तो कल कहेंगे कि एशियाई खेल आयोजित करेंगे, ओलंपिक आयोजित करेंगे

मणिशंकर अय्यर, पूर्व खेल मंत्री

उन्होंने कहा, "राष्ट्रमंडल खेलों का बेड़ा गर्क होगा क्योंकि मैं समझता हूँ कि अगर ये खेल सफल हो गए तो कल कहेंगे कि एशियाई खेल आयोजित करेंगे, ओलंपिक आयोजित करेंगे."

अय्यर ने बात यहीं नहीं छोड़ी और साथ ही एक बड़ा आरोप जड़ दिया, "खेलों के आयोजन के लिए हमने हर राष्ट्रमंडल देश की ओलंपिक समिति को एक लाख डॉलर दिए, इसको मैं रिश्वत कहता हूँ, पता नहीं क़ानून के नज़रिए में ये रिश्वत है कि नहीं. इस तरह से जो खेल लिए गए हैं तो इसकी रहनुमाई शैतान ही करेगा कहाँ ख़ुदा करेगा."

तैयारी पर सवाल

उन्होंने ये आरोप उसी दिन लगाए हैं जिस दिन इन खेलों के प्रमुख आयोजन स्थल जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम का लोकार्पण हुआ.

इस मौके़ पर खेलों की आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाड़ी ने खेलों की विफलता की कामना कर रहे अय्यर के बारे में कहा, "कोई भी भारतीय कभी इस तरह की बात नहीं करेगा और अभी तो वो सांसद हैं, उन्हें अपनी ज़िम्मेदारी समझनी चाहिए."

कोई भी भारतीय कभी इस तरह की बात नहीं करेगा और अभी तो वो सांसद हैं, उन्हें अपनी ज़िम्मेदारी समझनी चाहिए.

सुरेश कलमाडी, खेल आयोजन समिति के प्रमुख

साथ ही कलमाड़ी का कहना था कि अच्छा है जो अय्यर अभी खेल मंत्री नहीं हैं वरना खेलों के आयोजन स्थल तैयार ही नहीं हो पाते, "हर दिन वो किसी न किसी चैनल पर आ रहे हैं और कह रहे हैं कि अगर खेल सफल हुए तो उन्हें अफ़सोस होगा. अय्यर साहब कोई भी इन खेलों में रोड़ा नहीं अटका सकता. सभी चीज़ें सही राह पर हैं. अगर मणिशंकर अय्यर खेल मंत्री रहे होते तो शायद ये स्टेडियम तैयार ही नहीं हो पाते."

स्टेडियम के लोकार्पण के दौरान खेल मंत्री मनोहर सिंह गिल और दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने भी भरोसा जताया कि खेल सही ढंग से आयोजित हो जाएँगे.

मगर इस राह में अभी चुनौतियाँ कई हैं क्योंकि मंगलवार से ही दिल्ली के श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्विमिंग कॉम्प्लेक्स में एक प्रतियोगिता शुरू हुई है जिससे वहाँ की तैयारियाँ परखी जा सकें और उसी दिन वहाँ एक तैराक के पैर में चोट लग गई क्योंकि एक जगह लगा पत्थर उखड़ा हुआ था.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.