BBC World Service LogoHOMEPAGE | NEWS | SPORT | WORLD SERVICE DOWNLOAD FONT | Problem viewing?
BBCHindi.com

पहला पन्ना
भारत और पड़ोस
खेल और खिलाड़ी
कारोबार
विज्ञान
आपकी राय
विस्तार से पढ़िए
हमारे कार्यक्रम
प्रसारण समय
समाचार 
समीक्षाएं 
आजकल 
हमारे बारे में
हमारा पता
वेबगाइड
मदद चाहिए?
Sourh Asia News
BBC Urdu
BBC Bengali
BBC Nepali
BBC Tamil
 
BBC News
 
BBC Weather
 
 आप यहां हैं: 
 भारत और पड़ोस
सोमवार, 19 मई, 2003 को 16:08 GMT तक के समाचार
दहेज के ख़िलाफ़ बनता माहौल
निशा से दूसरी लड़कियों को भी प्रेरणा मिली है
निशा से दूसरी लड़कियों को भी प्रेरणा मिली है

भारत में अभी हाल ही में एक लड़की निशा ने दहेज के लोभी दूल्हे को जेल की हवा खिला कर एक नई मिसाल क़ायम की है और इससे कई लड़कियों और उनके घरवालों को प्रेरणा मिली है.

निशा का अनुसरण करते हुए पिछले कुछ दिनों में दो अन्य लड़कियों ने दहेज की मांग करने वाले दूल्हों की बारात वापस कर दी.

इस महीने के शुरू में इक्कीस वर्षीय निशा शर्मा की शादी तय हुई, कार्ड छपे और बारात भी आने को ही थी कि दूल्हा दहेज़ पर अड़ गया.

उसने और सब चीज़ों के अलावा बारह लाख रुपये की मांग की और इसको लेकर निशा के पिता को न केवल बुरा-भला कहा बल्कि उनसे हाथापाई भी की.

निशा ने यह सुनते ही न केवल शादी रद्द कर दी बल्कि पुलिस को बुला लिया और लड़के को गिरफ़्तार करा दिया.

भारतीय समाज में आमतौर पर शादी का रद्द हो जाना या दुल्हन के दरवाज़े से बारात का वापस लौट जाना बहुत बुरा माना जाता है और एक तरह से वधू के घर का सम्मान ख़त्म हो जाता है.

लेकिन निशा के मामले में ऐसा नहीं हुआ, उलटे उसके इस साहसपूर्ण क़दम का इतना प्रचार हुआ कि उसके बारे में लगभग सभी राष्ट्रीय दैनिकों में ख़बरें छपीं और टेलीविज़न कैमरे उसके घर पर पहुँच गए और वह रातों रात मशहूर हस्ती बन गई.

उसे एक आधुनिक बहादुर महिला का ख़िताब मिला.

महिलाओं के अधिकारों के लिए काम करने वाले संगठनों ने भी उसकी दिल खोल कर सराहना की और निशा शर्मा की हिम्मत को देखते हुए एक राजनीतिक दल ने उसे अगले चुनाव में अपना उम्मीदवार बनने के लिए न्यौता भी दे डाला.

कुप्रथा

भारतीय क़ानून में हालाँकि दहेज़ लेना या देना अपराध है लेकिन यह कुप्रथा चोरी छिपे प्रचलन में है जिससे बहुत सी युवतियों के परिवारों को दहेज के लिए क़र्ज़ भी लेना पड़ता है जो उनकी आर्थिक कमर तोड़ देता है.

कई माता-पिता चुपचाप लड़के वालों की मांग पूरी करते रहते हैं और कई लड़कियाँ दहेज की मांग का शिकार हो जाती हैं.

ऐसे भी बहुत से मामले देखे जाते हैं कि दहेज का दानव बहुत सी युवतियों की जान ही ले लेता है.

राजधानी दिल्ली में हुई इन कुछेक घटनाओं से ये निष्कर्ष निकालना तो जल्दबाज़ी होगी के भारतीय समाज में क्रांतिकारी परिवर्तन हो रहे हैं.

लेकिन ये कहना भी ग़लत न होगा कि अब माहौल बदल रहा है और भारतीय लड़कियाँ अब पहले से ज़्यादा सशक्त महसूस करने लगी हैं.
 
 
अन्य ख़बरें
18 मई, 2003
दहेज के ख़िलाफ़ एक और आवाज़
16 मई, 2003
अब निशा पर दबाव
15 मई, 2003
दहेज़ लोभी को सबक़ सिखाया
कुछ और पढ़िए
वकीलों पर केंद्रीय मंज़ूरी
'कश्मीर मसले पर भाषा बदली'
तस्वीर भेजी और चकमा दिया
मायावती के घर पर छापा
लड़की की बारात
उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में लड़ाई
सपना पूरा हुआ हबीब का







BBC copyright   ^^ हिंदी

पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल और खिलाड़ी
कारोबार | विज्ञान | आपकी राय | विस्तार से पढ़िए
 
 
  कार्यक्रम सूची | प्रसारण समय | हमारे बारे में | हमारा पता | वेबगाइड | मदद चाहिए?
 
 
  © BBC Hindi, Bush House, Strand, London WC2B 4PH, UK