BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 17 मई, 2007 को 21:27 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
गैस सोखने की क्षमता ख़तरे में
 
अंटार्कटिक समुद्र
अंटार्कटिक में बर्फ़ तेज़ी से पिघल रही है और जलस्तर बढ़ रहा है
वैज्ञानिकों का कहना है कि जलवायु परिवर्तन के कारण अंटार्कटिक के चारों ओर फैले दक्षिणी महासागर में कार्बन डाइऑक्साइड सोखने की क्षमता ख़तरे में है.

पत्रिका 'साइंस' में छपे एक शोध में ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे, यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंगलिया और मैक प्लांक इंस्टीट्यूट फॉर बायोजियोकेमिस्ट्री के वैज्ञानिकों का कहना है कि दक्षिणी महासागर कार्बन डाइऑक्साइड से पूरी तरह भर गया है.

असल में यह महासागर भारी मात्रा में दुनिया भर में उत्सर्जित होने वाली कार्बन डाइऑक्साइड गैस को सोखता है लेकिन अब इसमें इतनी कार्बन डाइऑक्साइड आ गई है कि सागर इसे सोखने की बजाय वापस वातावरण में छोड़ रहा है.

वैज्ञानिकों के अनुसार अगर इसे रोका नहीं गया तो दुनिया का तापमान आशंकाओं से कहीं अधिक तेज़ी से बढ़ेगा.

दक्षिणी महासागर दुनिया का पंद्रह प्रतिशत कार्बन डाइऑक्साइड सोखती है जिससे तापमान सामान्य रखने में मदद मिलती है. यह गैस सागर के तल में बैठ जाती है.

हालांकि पिछले कुछ वर्षों में बढ़ते हुए तापमान और ओज़ोन परत को हुई क्षति के कारण तेज़ हवाएं चलने लगी हैं जिससे सागर का पानी हिलोरें लेता है और गैस नीचे बैठ नहीं पाती है.

इतना ही नहीं गर्म और तेज़ हवाओं के कारण नीचे बैठी हुई गैस ऊपर आ रही है और वातावरण में फैल रही है.

इन वैज्ञानिकों ने चार साल के गहन शोध के बाद यह चेतावनी दी है और कहा है कि आने वाले समय में अन्य महासागरों के साथ भी ऐसा हो सकता है.

 
 
जलवायु परिवर्तनजलवायु परिवर्तन
जलवायु परिवर्तन के ख़तरों और चुनौतियों पर बीबीसी हिंदी की विशेष प्रस्तुति.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>