BBC navigation

क्या शेनज़ेन बनेगा अगला सिलिकॉन वैली ?

 शुक्रवार, 28 मार्च, 2014 को 10:47 IST तक के समाचार
चीन में मोबाइल का इस्तेमाल करती युवती

दुनिया की पाँच सबसे बड़ी मोबाइल हैंडसेट निर्माता कंपनियों में से तीन एक ही देश से हैं और यह देश अमरीका नहीं है.

शेनज़ेन इलाक़े में स्थित हुअवेई, लेनेवो और ज़ेडटीई कंपनियों की गिनती एरिक्सन और सैमसंग के साथ होती है.

इसकी वजह केवल बिक्री की मात्रा भर नहीं है.

पेटेंट आवेदनों की संख्या के लिहाज़ से ज़ेडटीई दुनिया की सबसे क्लिक करें नवाचारी कंपनी है. पिछले तीन सालों में इसने सबसे ज़्यादा 50,000 पेटेंट के आवेदन किए.

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या चीन का शेनज़ेन क्षेत्र सिलिकॉन वैली से आगे निकल जाएगा?

शेनज़ेन हांगकांग से थोड़ी दूर पर स्थित है. कभी फिशिंग विलेज के रूप में जाना जाने वाला शेनज़ेन आज कैलीफ़ोर्निया से प्रतिस्पर्धा कर रहा है.

यहां केवल मोबाइल क्षेत्र के बड़े खिलाड़ी नहीं हैं, शेनज़ेन में करीब 6,000 मोबाइल सेट निर्माता हैं.

शोध और विकास पर ख़र्च

इस क्षेत्र में चीन के मोबाइल फ़ोन के बड़े हिस्से का उत्पादन होता है, हर साल दुनियाभर में बिकने वाले 2.5 अरब क्लिक करें मोबाइल सेट का आधा उत्पादन अकेले चीन में होता है.

यह संख्या धरती के आधे युवाओं के बराबर है दो हर साल नया मोबाइल सेट ख़रीदते हैं.

चीन में शोध और विकास पर होने वाला ख़र्चा काफ़ी तेज़ी से बढ़ा है, यह पिछले दो सालों में करीब 20 प्रतिशत की दर से हर साल बढ़ रहा है.

चीन, मोबाइल

इस क्षेत्र में चीन हर साल करीब 300 अरब डॉलर ख़र्च करता है, वहीं अमरीका का ख़र्च 450 बिलियन डॉलर है. ऐसा अनुमान है कि चीन 2018 तक यूरोप को और 2022 तक अमरीका को शोध और विकास पर होने वाले ख़र्च के मामले में पीछे छोड़ देगा.

वास्तव में शोध व विकास पर होने वाले ख़र्चे और पेटेंट आवेदन से नवाचार का निर्धारण नहीं होता है. आविष्कारों की उपयोगिता से नवाचार का निर्धारण होती है. लेकिन इस बारे में अभी कोई आँकड़ा उफलब्ध नहीं है.

एक साक्षात्कार में ज़ेडटीई के प्रेसिडेंट शि लिरोंग ने मुझे बताते हैं कि उनकी कंपनी आय का 10 फ़ीसदी हिस्सा शोध और विकास के ऊपर ख़र्च करती है.

आँकड़ों की सुरक्षा

वह कहते हैं कि बाज़ार में हिस्सेदारी के लिए उन्हें विशिष्ट तकनीक की जरूरत होगी और उपभोक्ताओं को जोड़े रखने के लिए नावचारों की आवश्यकता है.

चीनी कंपनियां आकार में बड़ी हो सकती हैं, लेकिन उनका नाम वैश्विक कारोबारी घरानों जैसा नहीं है.

इसका एक मुख्य कारण है कि वे दुनिया के सबसे बड़े बाज़ार अमरीका तक सीमित हैं.

हम रोज़ाना क्लिक करें मोबाइल का इस्तेमाल बात करने, मैसेज भेजने और मेल भेजने के लिए करते हैं.

विश्व मोबाइल कांग्रेस

गीगाबाइट डेटा आँकड़ा रोज़ाना भेजा जाता है, यह आँकड़े ग़लत हाथों में भी पड़ सकते हैं.

अमरीकी सरकार ने सुरक्षा कारणों के मद्देनज़र सरकारी प्रतिष्ठानों में चीनी कंपनियों के ठेका लेने से प्रतिबंधित लगा दिया है.

लेकिन चीनी कंपनियां वैश्विक स्तर की बड़ी कंपनी होने के नाते यूरोप और अमरीका को कड़ी प्रतिस्पर्धा दे रही हैं.

लेकिन किसी देश में नवाचार की वास्तविक स्थिति को जानने में समय लगता है- इसलिए देखना होगा कि क्या शेनज़ेन सिलकॉन वैली को टक्कर दे पाएगा.

चीन की सफलता आर्थिक व्यवस्था के पश्चिम से पूर्व में स्थानांतरित होने का नया अध्याय लिखेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.