ऑनलाइन हो रहे हैं रोबोट

  • 16 जनवरी 2014
रोबोट
रोबोअर्थ प्रणाली का परीक्षण हास्पीटल में किया जाएगा.

सीखना और साझा करना इंसानी प्रवृति मानी जाती है मगर अब रोबोट भी इससे पीछे नहीं रहेंगे.

पहली बार रोबोट के लिए एक ऐसा वर्ल्ड वाइड वेब तैयार किया जा रहा है जहां वे इंसानों की तरह ही एक दूसरे से सीखेंगे और जानकारियां साझा करेंगे. इस वेब का नाम होगा 'रोबोअर्थ'.

रोबोअर्थ को विकसित करने वाले वैज्ञानिक इस प्रणाली को इंडोवेन यूनिवर्सिटी में तैयार किए गए एक बनावटी अस्पताल में साकार करने की योजना बना रहे हैं.

अस्पताल में मरीज़ को पेय पदार्थ देने सहित अन्य कई कामों के लिए चार रोबोट इस प्रणाली का इस्तेमाल करेंगे.

रोबोट के लिए ऐसी प्रणाली विकसित करने वाली योजना में यूरोपीय संघ ने पैसे लगाए हैं. यह योजना पिछले चार साल से चल रही है.

योजना का लक्ष्य रोबोट को इस लायक बनाना है ताकि वो अपनी जानकारियों को डाटाबेस से साझा कर सके. यही सूचनाएं सभी मशीनों के साथ एक ख़ास मस्तिष्क के जरिए साझा की जाएंगी.

एक ही दिमाग

रोबोअर्थ प्रणाली का विकास इंडोवेन सहित पांच यूरोपीय विश्वविद्यालयों ने मिलकर किया है.

रोबोअर्थ प्रोजेक्ट की अगुआई करने वाले रेने वान दे मोलेनग्राफ्ट का कहना है, "मूल रूप से रोबोअर्थ रोबोट के लिए तैयार किया गया एक वर्ल्ड वाइड वेब है. विशाल नेटवर्क और लंबे चौड़े आंकड़ों का गोदाम इसकी ख़ासियत है. यहां रोबोट अपनी जानकारियां एक दूसरे से बाटेंगे और एक दूसरे से सीखेंगे भी."

बीबीसी से बात करते हुए वे कहते हैं कि इस विशेष प्रणाली का परीक्षण सार्वजनिक रूप से किया जाएगा. परीक्षण के लिए चार रोबोट चुने गए हैं. ये रोबोट मरीज़ की मदद के लिए मिलजुल कर काम करेंगे.

उदाहरण के लिए एक रोबोट कमरे का नक्शा वेबसाइट पर अपलोड करेगा ताकि मरीज़ से मिलने वालों को यहां पहुंचने में कोई परेशानी ना हो और मरीज़ को पेय पदार्थ भी जल्दी और आसानी से मिल जाए.

वे बताते हैं, "मगर समस्या ये है कि एक रोबोट को प्रायः एक ही काम के लिए तैयार किया जाता है."

"रोज इतने तरह के बदलाव आकार ले रहे हैं कि रोबोट से योजनाबद्ध तरीके से काम करवा पाना मुश्किल साबित होता है."

घरेलू रोबोट

रोबोअर्थ प्रणाली का उद्देश्य कई रोबोट के लिए एक ऐसा मस्तिष्क तैयार करना है जो संयुक्त रूप से कई काम करता हो.

उन्होंने आगे कहा, "दवाइयों के किसी डिब्बे को खोलने जैसे काम को रोबोअर्थ पर साझा किया जाएगा ताकि दूसरे वैसे रोबोट भी ऐसा कर सकें जिन्हें दवाई के उस ख़ास डिब्बे को खोलना नहीं सिखाया गया."

होम रोबोट
घास काटने के लिए भी इस्तेमाल किया जाने वाला रोबोट.

विशेषज्ञों का अंदाजा है कि अगर आपको अपने घरेलू कामों में सहायता लेने के लिए इस तरह के रोबोट चाहिए तो 10 साल इंतजार करना होगा.

हालांकि घरों में पहले से रोबोट वैक्यूम क्लीनर, घास काटने और खिड़कियां साफ़ करने वाले रोबोट उपलब्ध हैं.

शारीरिक रूप से कमज़ोर और अधिक उम्र के लोगों की सहायता करने वाले रोबोट विकसित किए जा रहे हैं.

अपनी समझ विकसित कर लेने वाले रोबोट के ख़तरे के बारे में किताब लिखने वाले लेखक जेम्स बराट मानते हैं कि ऐसे रोबोट की सहायता लेने में सावधानी बरतने की भी ज़रूरत है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)