BBC navigation

दस बातें जो पिछले हफ़्ते हम नहीं जानते थे

 शनिवार, 7 दिसंबर, 2013 को 15:30 IST तक के समाचार
fox golf

1. आदमी और औरत के दिमागों की सरंचना अलग-अलग होती है और बचपन के बाद यह अंतर बढ़ता जाता है.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें (इकोनॉमिस्ट)

2. भेड़िये को भी एक कुत्ते की तरह ही प्रशिक्षित किया जा सकता है.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें (दि टाइम्स)

3. आदिम लोग बड़े शौक़ से अपने घर बनाते थे. उनके घरों में औज़ार बनाने, जानवरों को काटने और मिलने-जुलने के लिए अलग-अलग स्थान निर्धारित थे.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें (डेली टेलीग्राफ़)

4. स्वीडन में बच्चों के एक टीवी कार्यक्रम के किरदार "पू-पू" (मल के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द) और "वी-वी" (मूत्र के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द) जैसे कपड़े पहनकर आते हैं.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें

5. मादा लेमन शार्क प्रजनन के लिए अपने जन्म स्थान पर वापस आती है.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें

6. पोप कभी एक बाउंसर हुआ करते थे.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें- (कैथोलिक न्यूज़)

7. लातिन अमरीका में बंदर केले की बजाय पौटेरिया और ब्रॉसीमम पेड़ों के फल खाना पसंद करते हैं.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें

8. किसी व्यक्ति की आवाज़ सुनकर आप पता लगा सकते हैं कि वह लंबा है या नहीं.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें (डेली मेल)

9. कोआला (भालू जैसा एक जानवर) ने एक ऐसा अंग विकसित कर लिया है जिससे वह संबंध बनाने के लिए बेहद धीमी आवाज़ निकाल सकता है.

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें

10. बोलने में सबसे मुश्किल वाक्य है, "पैड किड पाउर्ड कर्ड पुल्ड कोल्ड".

क्लिक करें ज़्यादा जानकारी के लिए देखें (इंडिपेंडेंट)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें यहां क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.