स्मार्ट टीवी आपकी 'जासूसी' तो नहीं कर रहा?

  • 21 नवंबर 2013
एलजी, स्मार्ट टीवी
ब्रिटेन का सूचना आयुक्त कार्यालय गोपनीयता के उल्लंघन के आरोपों की जांच कर रहा है.

इलेक्ट्रॉनिक सामान बनाने वाली कंपनी एलजी पर इंग्लैंड के एक आईटी कंसल्टेंट ने जासूसी करने का आरोप लगाया है.

उनका कहना है कि प्राइवेसी सेटिंग को एक्टिवेट करने के बावजूद एलजी के स्मार्ट टीवी लोगों की टीवी देखने की आदत के बारे में कंपनी को विस्तृत जानकारी भेजते हैं. एलजी इन आरोपों की जांच कर रही है.

हल के आईटी कंसल्टेंट जैसन हंटले ने एक ब्लॉग में लिखा है कि आप कौन से चैनल देख रहे हैं, इसकी जानकारी स्मार्ट टीवी एलजी को भेजता है.

उनकी जांच में यह भी सामने आया कि स्मार्ट टीवी उससे जुड़े अन्य उपकरणों की जानकारी भी कंपनी को देता है.

इसका मतलब यह हो सकता है कि एलजी ने नियमों का उल्लंघन किया है.

इस बारे में ब्रिटेन के सूचना आयुक्त कार्यालय ने कहा है कि वो मामले को देख रहे हैं.

एक प्रवक्ता ने कहा, ''हमें हाल ही में जानकारी मिली है कि गोपनीयता का उल्लंघन किया गया, इसमें एलजीका स्मार्टटीवी भी शामिल हो सकता है.''

मामले की जांच

उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जा रही है और इसके बाद क्या कार्रवाई की जाएगी, इस बारे में फ़ैसला किया जाएगा.

जैसन हंटले ने जब दक्षिण कोरियाईकंपनी एलजी से संपर्क किया तो उनसे कहा गया कि एलजी के टीवी का इस्तेमाल करते हुए उन्होंने कंपनी की शर्तों और नियमों को स्वीकार किया है और अगर इसके बाद भी उनकी कोई शिकायत है तो उन्हें उस दुकानदार से संपर्क करना चाहिए जिससे उन्होंने टीवी खरीदा था.

लेकिन जब बीबीसी ने एलजी से संपर्क किया तो उसने इस तरह के संकेत दिए कि वो शिकायत पर ध्यान दे रही है.

कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा, ''एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स के लिए उपभोक्ता की गोपनीयता शीर्ष प्राथमिकता है और इसलिए हम मामले को बेहद गंभीरता से ले रहे हैं. एलजी स्मार्ट टीवी पर यूजर्स के देखने के बारे में कुछ सूचनाएं बिना सहमति के शेयर की जा रही है, हम इसकी जांच कर रहे हैं.''

उन्होंने कहा, ''एलजी अलग-अलग बाज़ारों के लिए विभिन्न फीचर वाले स्मार्ट टीवी पेश करती है, ऐसे में हम आपसे धैर्य और समझदारी की अपेक्षा करते हैं. हम मामले की जांच कर रहे हैं.''

सुरक्षा डर

हंटले के पास इस बात के सबूत हैं कि प्राइवेसी सेटिंग बदले जाने के बावजूद कैसे सूचनाएं भेजी जा रही है.

हंटले ने कहा कि उनको इस बारे में अक्टूबर में पता चला. इसके बाद उन्होंने यह जानने की कोशिश की उनके परिवार के अनुरूप विज्ञापन टीवी के यूजर इंटरफेस पर कैसे दिख रहा है.

इसके बाद टीवी के मेनू सिस्टम में जाने पर उनको पता चला कि उसमें पहले से ही ''कलेक्शन ऑफ वाचिंग इंफो'' विकल्प को ऑन किया गया है.

इस विकल्प को ऑफ करने के बाद भी उन्होंने पाया कि हर चैनल के बारे में विस्तृत जानकारी एलजी के कंप्यूटर सर्वर्स को भेजी जा रही है, लेकिन इस बार ऐसे संकेत दिए गए कि यूजर ने इसको नहीं चुना है.

इसके बाद उन्होंने टीवी में यूएसबी पोर्ट के ज़रिए उससे एक एक्सटर्नल ड्राइव को जोड़ा. उन्होंने सोचा कि टीवी केवल यह दिखाएगा कि आप एक एक्सटर्नल ड्राइव से सामग्री देख रहे हैं. लेकिन इसमें हर मीडिया फाइल का नाम, बच्चों के नाम से सेव की गई फ़ोटो फाइल आदि एलजी को भेजे जा रहे हैं.

हंटले का कहना है कि हो सकता है कि एलजी ने कभी भी इन डेटा की जांच नहीं की हो लेकिन तब भी यह सुरक्षा की दृष्टि से काफी अहम है. एलजी के प्रवक्ता ने कहा है कि कंपनी जल्द ही इस बारे में टिप्पणी करेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)