BBC navigation

डिजिटल इंडियंस हैंगआउट: क्या सोशल मीडिया से भारत में क्रांति संभव है?

 गुरुवार, 5 सितंबर, 2013 को 20:04 IST तक के समाचार
फ़ेसबुक

क्लिक करें डिजिटल इंडियंस शृंखला के तहत हम गूगल हैंगआउट में चर्चा करने जा रहे हैं भारत में सोशल मीडिया की स्थिति पर.

साथ ही भारत में सोशल मीडिया कैसे दुनिया के बाक़ी देशों से अलग है?

गूगल हैंगआउट एक ज़रिया है वेब पर कई लोगों से एक-साथ जुड़कर वीडियो चैट करने का.

आप भारतीय समयानुसार रात आठ बजे से ये हैंगआउट नीचे दिए गए लिंक पर देख भी सकते हैं-

क्लिक करें गूगल प्लस पर या क्लिक करें यूट्यूब पर

आप भी इस हैंगआउट में शामिल होकर अपनी राय रख सकते हैं इस बात पर कि क्या भारत के युवा देश में सोशल मीडिया की क्रांति ला सकते हैं?

बीबीसी की डिजिटल इंडियंस की क्लिक करें प्रोजेक्ट टीम आपको इस हैंगआउट में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर रही है. आप भी 5 सितंबर को भारतीय समयानुसार रात आठ बजे से विशेषज्ञों के पैनल से जुड़ सकते हैं.

हैंगआउट का संचालन करेंगी बीबीसी की दिल्ली डिजिटल संपादक रमा शर्मा. इसमें शामिल होने वाले हैं-

-आशीष टंडन: ग्रामवाणी

- सचिन तपारिया: लोकल सर्कल्स

- दीना मेहता: ब्लॉगर

- अनिका गुप्ता: आईबीएन लाइव के सिटिज़न जर्नलिज़्म प्रोजेक्ट से

- प्रशांतो के रॉय: टेक्नॉलॉजी और डिजिटल मामलों के लेखक

- मरियम क़्वानसाह: बीबीसी अफ़्रीका के सोशल मीडिया विभाग से

आइए आपको बताते चलें कि आप इसमें कैसे शामिल हो सकते हैं-

- गूगल+ :आप क्लिक करें बीबीसी इंडिया के गूगल+ पेज के ज़रिए अपने सवाल भेज सकते हैं या इस हैंगआउट में शामिल होने की इच्छा ज़ाहिर कर सकते हैं.
- ट्विटर : अपने सवाल या टिप्पणियाँ आप हैशटैग #BBCDI का इस्तेमाल करके क्लिक करें @bbchindi या क्लिक करें @bbcindia को ट्वीट कर सकते हैं.
- फ़ेसबुक: क्लिक करें बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक पेज पर आप इससे जुड़ी पोस्ट में अपने सवाल कमेंट के तौर पर पोस्ट कर सकते हैं.

इसके अलावा गूगल हैंगआउट में हिस्सा लेने के लिए आप नीचे दिए गए फ़ॉर्म का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

कमेंट्स

अब कमेंट नहीं कर सकते

सीधे कमेंट वाले पेज पर पहुंचें
 
 

कमेंट्स 5 कुल 12

 

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.