BBC navigation

आईबीएम की फ़िल्म में 'एटम की ऐक्टिंग'

 बुधवार, 1 मई, 2013 को 19:50 IST तक के समाचार

आईबीएम की फिल्म में परमाणुओं को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे कोई बच्चा गेंद से खेल रहा हो

आईबीएम के शोधकर्ताओं ने ताँबे की सतह पर परमाणुओं को कुशलतापूर्वक नियंत्रित करके दुनिया की सबसे छोटी फिल्म तैयार की है.

इसके लिए स्टॉप मोशन एनिमेशन ने कार्बन के कुछ परमाणुओं का इस्तेमाल किया. उन्हें एक पतले सिरे के साथ घुमाया गया, जिसे स्कैनिंग टनलिंग माइक्रोस्कोप (एसटीएम) कहते हैं.

इंसान के एक बाल के बराबर फैलाव के लिए फिल्म में 1,000 से ज्यादा फ्रेम का इस्तेमाल किया गया.

परमाणुओं के इस असाधारण करतब को गिनिज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने प्रमाणित किया है.

मकसद

यह आईबीएम के प्रयासों का एक उदाहरण है, जिसके तहत वह एकल परमाणुओं पर आधारित अगली पीढ़ी के डेटा स्टोरेज समाधान तैयार कर रहा है.

आईबीएम के वैज्ञानिकों ने कई ऐसी तकनीक तैयार की हैं, जिनका इस्तेमाल परमाणु या आणविक प्रणाली में किया जा सकता है.

इन्हीं कोशिशों के क्रम में उन्होंने एटॉमिक फोर्स माइक्रोस्कोप नाम की मशीन का इस्तेमाल करते हुए एकल अणुओं की तस्वीर तैयार की.

इतना ही नहीं वे अणुओं के बीच परमाणु बांड की तस्वीर लेने में कामयाब रहे.

अनोखा खिलाड़ी

दुनिया की सबसे छोटी फिल्म को इसी स्टूडियों में तैयार किया गया, जो आश्चर्यजनक रूप से ठंडा है.

नई फिल्म का शीर्षक ‘ए ब्वॉय एंड हिज एटम’ है और इसमें आईबीएम के आविष्कार एसटीएम का इस्तेमाल किया गया है, जिसके वैज्ञानिक को 1986 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला था.

यह डिवाइस चमत्कारिक रूप से सतह पर नुकीली धातु की सुई पर विद्युत आवेश के प्रवाहित होने के जरिए काम करती है. क्वांटम भौतिकी प्रभाव (टनेलिंग) में सतह पर नोंक के बीच अंतर के कारण आवेश “अंतर के बीच छलांग” लगा सकता है.

90 सेकेंड की इस फिल्म के 242 फ्रेम दरअसल परमाणुओं की दी गई एक व्यवस्था के साथ इस “टनलिंग करेंट” का मानचित्र है. इसमें एक लड़के को “गेंद” से खेलते हुए दिखाया गया है, जो दरअसल एक परमाणु से बना है और ट्रैम्पोलाइन पर नाच रहा है.

इस कवायद को पूरा करने में चार वैज्ञानिकों को दो सप्ताह लगे और इसे यू-ट्यूब वीडियो के जरिए समझाया गया है.

उन्होंने बताया कि वास्तव में यह कोशिश किसी खास वैज्ञानिक खोज के लिए नहीं थी. यह फिल्म बच्चों और अन्य लोगों में गणित, विज्ञान और तकनीक के बारे में कौतुहल पैदा करने के लिए है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.