BBC navigation

अगले पांच अरब यूज़र्स में भारतीय अहम: गूगल

 शुक्रवार, 22 मार्च, 2013 को 14:57 IST तक के समाचार
एरिक श्मिट

श्मिट का कहना है कि आने वाले समय में इंटरनेट के क्षेत्र में भारत का अहम योगदान रहेगा.

गूगल का कहना है कि आने वाले समय में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों में भारतीय लोगों का दबदबा होगा.

इस समय दुनियाभर में इंटरनेट से दो अरब लोग जुड़े हुए हैं.आने वाले समय में गूगल को उम्मीद है कि और अरबों लोग इंटरनेट से जुड़ेंगे जिसमें भारत की एक बड़ी आबादी होगी.

नई दिल्ली में गुरुवार को हुए गूगल के बिग टेंट फोरम में गूगल के कार्यकारी अध्यक्ष एरिक श्मिट ने कहा कि, “दुनियाभर में दो अरब लोग इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे है और भविष्य में जुड़ने वाले पांच अरब यूज़र्स का एक बड़ा हिस्सा भारत से आएगा.”

उन्होंने कहा कि वो एक गणितज्ञ हैं और आंकड़े भारत के पक्ष में हैं.

श्मिट मानते है कि अगर तथ्यों पर नज़र डाली जाए तो पता चलता है कि भारत में इंटरनेट के क्षेत्र में काफ़ी काम किया जाना बाक़ी है.

अगले पांच अरब नए इंटरनेट यूज़र्स और उनके पसंद-नापसंद, ऑनलाइन व्यवहार के बारे में जिज्ञासा व्यक्त करते हुए श्मिट ने कहा कि भारत में करीब 13 करोड़ इंटरनेट यूज़र हैं, जबकि इसमें से केवल दो करोड़ ब्रॉडबैंड पर हैं.

उन्होंने कहा कि नए यूज़र्स पहले एक अरब यूज़र्स से काफ़ी अलग हो सकते है. श्मिट के अनुसार इंटरनेट पर अंग्रेज़ी के अलावा अन्य भाषाएं भी महत्वपूर्ण साबित होंगी.

ढांचागत सुधार चाहिए

"दुनियाभर में दो अरब लोग इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे है और भविष्य में जुड़ने वाले पांच अरब यूज़र्स का एक बड़ा हिस्सा भारत से आएगा."

एरिक श्मिट, गूगल

अपनी बात रखते हुए फोरम में श्मिट ने कहा कि भारत में इंटरनेट के विकास के लिए ढांचागत सुधार किए जाने और सस्ते डिवाइसेस उपलब्ध कराए जाने की ज़रूरत है.

भारत में इंटरनेट पर रेगुलेशन के मामले में श्मिट कहते है कि सर्विस प्रोवाइडर्स को आपत्तिजनक डेटा पर लगाम लगानी चाहिए.

इंटरनेट के दुष्प्रभावों पर श्मिट ने कहा, “इंटरनेट के कुछ नुकसान भी है, जैसे निजता का हनन होना और ये काफ़ी चिंताजनक बात है. इस डेटा का सरकारें भी गलत उपयोग कर सकती हैं.”

डेटा के गलत उपयोग के बारे में उदाहरण देते हुए श्मिट ने कहा कि जब ऐसा अमरीका या यूरोप में हो सकता है तो भारत में भी हो सकता है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.