आठ साल के यू ट्यूब की पांच अनोखी बातें

  • 19 फरवरी 2013
यू ट्यूब वेबसाइट

वीडियो अपलोड करनेवाली दुनिया की बहुचर्चित वेबसाइट यू ट्यूब इस हफ्ते आठ साल की हो गई है.

इस वेबसाइट पर हर महीने 80 करोड़ लोग चार अरब घंटों से ज्यादा समय वीडियो देखने में बिताते हैं.

वेबसाइट की मौजूदा कीमत 36 से 45 अरब डॉलर बताई जाती है.

अपलोड हुआ पहला वीडियो

14 फरवरी 2005 को तीन लोगों, स्टीव चेन, चाड हर्ली और जावेद करीम ने मिलकर इस वेबसाइट को शुरू किया था.

इस पर पहला वीडियों 19 सेकेंड का था जिसमें चिड़ियाघर की सैर शूट की गई थी.

अप्रैल 2005 को अपलोड किए गए इस पहले वीडियो को अबतक एक करोड़ हिट मिल चुके हैं.

गूगल ने अरबों में खरीदा

यू ट्यूब की लोकप्रियता को देखते हुए गूगल ने इसे कुछ ही महीनों में डेढ़ अरब डॉलर में खरीदा.

इसके कुछ साल बाद उस वक्त गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रहे एरिक श्मिट ने कहा कि उन्हें यूट्यूब की कीमत 60 से 70 करोड़ डॉलर ही लग रही थी लेकिन और कंपनियों को रोकने की मंशा से उन्होंने दोगुने से ज़्यादा दाम पर इसे ख़रीदा.

गूगल के ज़रिए यू ट्यूब पर आनेवालों की संख्या में तेज़ी से उछाल आई.

टीवी और सिनेमा जैसा प्लैटफॉर्म

कई लोग टीवी औऱ सिनेमा की भेड़चाल से अलग, वेबसाइट के इस माध्यम पर अपनी पहचान बना रहे हैं.

यू ट्यूब पर कई मौलिक वीडियो लगाए जा रहे हैं और लोग उन वीडियो को देखें तो लगानेवाला यू ट्यूब से कमाई भी कर सकता है.

कंपनी के मुताबिक वेबसाइट का 20 फीसदी ट्रैफिक मोबाइल यूज़र्स के ज़रिए आता है.

वेबसाइट ने बनाया स्टार

यू ट्यूब की सफलता का राज़ उसे इस्तेमाल करने की आसानी में बताया जाता है.

साथ ही वीडियो लोगों के समूहों को पसंद आने लग जाए तो अचानक बहुत तेज़ी से उसकी लोकप्रियता बढ़ जाती है.

यू ट्यूब पर कुछ वीडियो इतने प्रसिद्ध हुए कि विश्व भर में उनका डंका बज गया. कोरियाई गायक पीएस वाई का गंगनम स्टाइल गाना इसकी एक मिसाल है.

कॉपीराइट विवाद

वीडियो अपलोड करने के इस वेबसाइट ने कई लोगों को नाराज़ भी किया.

कई टेलीविज़न स्टूडियो और रिकॉर्ड कंपनियों ने कॉपीराइट के उल्लंघन के दावे भी ठोके.

हालांकि गूगल का कहना है कि जैसे ही उन्हें पता चलता है कि कोई वीडियो कॉपीराइट का उल्लंघन कर रहा है वो उसे फौरन हटा देते हैं.