हमशक्ल जुड़वां: किसने की यौन हिंसा

  • 11 फरवरी 2013

­­

आम डीएनए सैंपल में लगभग 400 जीन जोड़ों का मिलान किया जाता है

आपने ये तो सुना होगा कि दो जुडवां बच्चों की शक्ल एक बराबर हो लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि दो जुडवां भाईयों का डीएनए भी बराबर हो.

फ्रांस में ऐसा ही एक अनोखा मामला सामने आया है. जहां दो भाइयों के डीएनए परिणाम एक जैसे निकले हैं.

जेनेटिक आधार पर इनको अलग-अलग पहचाने के लिए अब पेचीदा जेनेटिक टेस्ट करवानें होगें जिनकी लागत लगभग छह करोड़ रुपये के करीब होगी.

ये मामला सामने आया है फ्रांस के दक्षिणी शहर मार्से में जहां पुलिस ने यौन हिंसा के एक मामले में दो जुड़वां भाइयों को गिरफ्तार किया है.

गिरफ्तार किए गए जुडवां भाईयों के नाम एल्विन और योहान हैं.

अधिकारियों का कहना है कि उन्हें पूरा भरोसा है कि उनमें से एक ने इस अपराध को अंजाम दिया है, लेकिन वो ये नहीं जानते कि इनमें से वो एक भाई कौन सा है.

साधारण तौर पर किए जाने वाला डीएनए टेस्ट भी दोनों भाइयों में फर्क नहीं बता सका.

6 करोड़ का टेस्ट

सितंबर 2012 से जनवरी 2013 के बीच मार्से शहर में 22 से 76 साल की महिलाओं के साथ इसी तरह की यौन हिंसा के छह मामले आ चुके हैं.

पुलिस को पहला सबूत बस पर लगे सीसीटीवी कैमरे से लगा जिसके आधार पर पुलिस ने दोनों भाईयों को गिरफ्तार किया.

पीड़ित महिला ने उन्हे अपराधी के तौर पर पहचान भी लिया लेकिन वो दोनों भाईयों में कोई फर्क नहीं कर पाई.

अब पुलिस जांचकर्ताओं के सामने यही सबसे बड़ी चुनौती है.

पुलिस को पीड़ित महिलाओं के शरीर से डीएनए सबूत भी मिले हैं लेकिन इनसे भी कोई मदद नहीं मिली है.

पुलिस का कहना है कि दोनों के डीएनए भी कमोबेश समान हैं.

पुलिस के अनुसार अपराधी को पहचानने के लिए पेचीदा जेनेटिक जांच करवाने में 850000 यूरो यानी लगभग छह करोड़ रुपये का खर्च आएगा.

इस टेस्ट के बाद ही दोनों जुड़वा भाइयों की अलग अलग पहचान हो सकेगी. एक विशेषज्ञ ने स्थानीय समाचार पत्र को बताया कि आम डीएनए सैंपल में लगभग 400 जीन जोड़ों का मिलान किया जाता है, यही 400 जोडे डीएनए बनाते हैं.

लेकिन इस मामले में अगल अलग फर्क आंकने के लिए अरबों जीन जोडों का मिलान करना पड़ेगा तब जाकर ये पता चल सकेगा कि उन भाइयों में से किसने ये अपराध किया है.