टीवी बाज़ार एलईडी से एक क़दम और आगे बढ़ा

 गुरुवार, 3 जनवरी, 2013 को 20:34 IST तक के समाचार
एलजी

ओलेड स्क्रीन वाला नया टेलीविज़न

जानी मानी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी एलजी ने टीवी के क्षेत्र में एक नई टेक्नोलॉजी उतारी है..जी हां एलईडी के बाद ओएलईडी टेक्नोलॉजी.

55 इंच स्क्रीन की सिरीज़ में उतारी गई ओएलईडी स्क्रीन अगली पीढ़ी की टेक्नॉलॉज़ी है. कंपनी के इस कदम को टेलीविज़न मार्केट में नई जंग की शुरुआत के तौर पर देखा जा रहा है.

‘ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड’ या ओलेड स्क्रीन लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले और प्लाज़्मा आधारित दूसरे विकल्पों की तुलना में बिजली की कम खपत करती है.

एलजी का यह उत्पाद दक्षिण कोरिया समेत यूरोप के दूसरे बाज़ारों में बेचा जाएगा.

पिछले साल जनवरी में हुए लास वेगास के कंज़्यूमर इलेक्ट्रॉनिक शो में एलजी और सैमसंग दोनो ही कंपनियों ने 55 इंच स्क्रीन वाली ओएलईडी टीवी के बारे में घोषणा की थी लेकिन उपभोक्ताओं तक इसे पहले पहुंचाने में एलजी ने बाज़ी मार ली है.

शेयरों में उछाल

एलजी

ओलेड स्क्रीन अगली पीढ़ी की टेक्नॉलॉज़ी है

इसके साथ ही बुधवार को कंपनी के शेयरों की कीमत में उछाल भी देखा गया. पांच लाख से ज्यादा की कीमत वाले इस टेलीविज़न सेट के बारे में जानकारों का कहना है कि इसकी कीमत कम होने में वर्ष 2015 तक इंतजार करना पड़ सकता है.

लेकिन इसकी अहमियत एलजी को बाजार के अगुआ के तौर पर स्थापित करने में ज्यादा है.

रिसर्च करने वाली फर्म ‘डिसप्लेसर्च’ के मुताबिक दुनिया भर में ओएलईडी स्क्रीन वाले टेलीविज़न सेट का बाज़ार वर्ष 2014 तक 17 लाख इकाईयों का हो जाएगा.

इस टेक्नॉलॉज़ी को लोकप्रिय एलसीडी स्क्रीन के उत्तराधिकारी के तौर पर देखा जा रहा है. ओएलईडी स्क्रीन पर काले रंग के भी कई शेड्स को बारीकी के साथ महसूस किया जा सकता है.

ओएलईडी स्क्रीन की छोटी साइज वाले टेलीविज़न सेट्स पहले से ही बाज़ार में मौजूद हैं. सैमसंग इस तकनीक का इस्तेमाल अपने स्मार्टफोन में करती रही है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.