अब दो महीने तक खराब नहीं होगी आपकी ब्रेड!

  • 10 दिसंबर 2012
60 दिनों तक तरोताज़ा रखा जा सकेगा ब्रेड को

एक अमरीकी कंपनी ने ऐसी तकनीक विकसित की है जिससे ब्रेड में 60 दिनों यानी दो महीने तक फफूंद नहीं लगेगा और ब्रेड ताज़ी बनी रहेगी.

ब्रेड को एक अत्याधुनिक माइक्रोवेव में बनाया गया जिससे फफूंद बनाने वाले जीवाणु नष्ट हो गए.

हालांकि, कंपनी को इस बात का डर भी है कि लोग इस पर कितना भरोसा जताएंगे.

अमरीकी कंपनी माइक्रोजैप का दावा है कि इस तकनीक से न सिर्फ ब्रेड को लंबे समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है बल्कि दूसरे खाद्य पदार्थों के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है.

खाने की बर्बादी रुकेगी

विकासशील देशों में खाने की बर्बादी एक आम समस्या है. अमरीका और ब्रिटेन में भोजन की सबसे ज्यादा बर्बादी होती है.

अमरीका में इस साल खाने की बर्बादी के जो आँकड़े सामने आए हैं, उसके मुताबिक अमरीकी नागरिक खरीदे गए खाद्य पदार्थों में से तकरीबन 40 फीसदी खाना बर्बाद कर देते हैं.

ब्रेड को लंबे समय तक खराब होने से बचाने के लिए विशेष प्रकार के माइक्रोवेव मशीन को तैयार किया गया है.

इस अनाज की कीमत 165 अरब डॉलर के करीब होती है.

ब्रिटेन में भी ब्रेड की बर्बादी बहुत ज्यादा होती है और इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है उसमें जल्दी पैदा होने वाला फफूंद.

आमतौर पर ब्रेड या पाव रोटी किसी प्लास्टिक रैपर में लिपटे होते हैं जो फफूंद पैदा करने के लिए काफी होता है.

ब्रेड को खास तरीके से रखने से उसे तकरीबन 10 दिनों तक ताज़ा और स्वादिष्ट रखा जा सकता है.

लेकिन अमरीकी कंपनी माइक्रोजैप का दावा है कि उन्होंने जो तकनीक विकसित की है उससे ब्रेड को करीब 60 दिनों तक सुरक्षित रखा जा सकेगा.

‘टेक्सस टेक विश्वविद्यालय’ की प्रयोगशाला में रखे मेटेलिक माइक्रोवेव को दिखाते हुए कंपनी के प्रमुख डॉन स्टल बताते हैं, “इस मशीन को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि ये बैक्टीरिया को नष्ट कर सके.”

सवाल स्वाद का

सबसे बड़ा सवाल लोगों के भरोसे और स्वाद का है.

इस पर डॉन स्टल कहते हैं कि लोगों का भरोसा जीतना इतना आसान काम नहीं होगा. इसके लिए हमें कुछ खरीदारों का विश्वास जीतना होगा.

वो कहते हैं कि हमें लोगों को गुणवत्ता का भरोसा दिलाना होगा.