बच्चों के सीटी स्कैन से कैंसर का खतरा

 गुरुवार, 7 जून, 2012 को 13:44 IST तक के समाचार

अध्ययन में सीटी स्कैन करवानेवाले ब्रिटेन के 180,000 मरीजों के आँकड़ों का अध्ययन किया गया

बचपन में कई बार सीटी स्कैन से मस्तिष्क कैंसर या ल्युकीमिया होने का ख़तरा तीन गुना अधिक बढ़ सकता है.

ब्रिटेन की न्यूकासल युनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों अगुआई में हुए एक अध्ययन में ये बात सामने आई है.

मगर लैंसेट जर्नल में इस अध्ययन के बारे में छपी रिपोर्ट में इस बात पर ज़ोर दिया गया है कि आम तौर पर इन स्कैनों से होनेवाले फायदे, खतरों की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण हैं.

उन्होंने कहा है कि उनके अध्ययन में इस बात को सामने रखा है कि सी टी स्कैन का प्रयोग तभी करना चाहिए जब वो बेहद आवश्यक हो जाए.

साथ ही स्कैन से हुए रेडिएशन को दूर करने के लिए भी प्रयास जारी रखना चाहिए.

सीटी (कम्प्यूटराइज़्ड टोमोग्राफ़ी) स्कैन में एक एक्स-रे नली को रोगी के शरीर के भीतर घुमाकर आंतरिक अंगों की गहराई से तस्वीरें ली जाती हैं.

सीटी स्कैन बच्चों के लिए उपयोगी होता है क्योंकि इसमें उन्हें बेहोश करने या सुलाने की ज़रूरत नहीं होती.

शोध

"हमने पाया कि बचपन में सीटी स्कैन करवाने से ब्रेन कैंसर और ल्युकीमिया का ख़तरा अच्छा ख़ासा बढ़ जाता है"

डॉ मार्क पीयर्स, न्यूकासल युनिवर्सिटी

अपनी तरह के इस पहले शोध में वैज्ञानिकों ने ब्रिटेन में 180,000 युवा मरीज़ों के रिकॉर्डों की समीक्षा की.

उन्होंने 1985 से लेकर 2002 तक के 21 साल से कम उम्र के ऐसे रोगियों का अध्ययन किया जिनका सीटी स्कैन हुआ था.

चूँकि रेडिएशन से होनेवाले कैंसर के विकसित होने में समय लगता है, इसलिए उन्होंने कैंसर और इससे होनेवाली मौतों का पता लगाने के लिए 2009 तक के आँकड़ों का परीक्षण किया.

मस्तिष्क कैंसर और ल्युकीमिया बहुत कम होनेवाली बीमारियाँ हैं.

अध्ययन का अनुमान है कि दस साल से कम उम्र के ऐसे बच्चे जिनके सिर के स्कैन हुए, उनमें पाया गया कि 10,000 मामलों में ल्युकीमिया और मस्तिष्क कैंसर का एक-एक अतिरिक्त मामला पाया गया.

न्यूकासल युनिवर्सिटी के वैज्ञानिक डॉक्टर मार्क पीयर्स ने कहा,"हमने पाया कि बचपन में सीटी स्कैन करवाने से ब्रेन कैंसर और ल्युकीमिया का ख़तरा अच्छा ख़ासा बढ़ जाता है."

मगर वे सीटी स्कैन से होनेवाले को तात्कालिक लाभ को खतरों से अधिक बड़ा बताते हुए उन्होंने स्कैन में इस्तेमाल हुई रेडियो किरणों के प्रभाव को दूर करने के लिए प्रयास करने की ज़रूरत पर बल दिया.

उन्होंने कहा,"रेडिएशन समय के साथ-साथ कम होता जा रहा है, मगर इसके स्तर को और कम करने की ज़रूरत है."

अध्ययन से जुड़े एक और वैज्ञानिक प्रोफ़ेसर सर एलन क्राफ़्ट ने कहा,"ब्रिटेन में यदि कोई चिकित्सक बच्चे के सीटी स्कैन के लिए कहता है तो वो ऐसा रेडिएशन के ख़तरे को ध्यान में रखकर ही करता है. इसलिए यहाँ जब कहा गया हो तो सीटी स्कैन नहीं करवाने से स्वास्थ्य के लिए ख़तरा और अधिक हो सकता है."

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने इस बारे में कहा है कि ब्रिटेन में सीटी स्कैन में अपनाए जानेवाले रेडिएशन का स्तर पहले से ही अन्य देशों के मुकाबले कम है और ये तभी करवाया जाता है जब उसके लिए वाजिब जरूरत होती है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.