आदि मानव भी करते थे मेकअप

निएंडरथल मानव

शोध से पता चला है कि निएंडरथल मानव मेकअप करते थे

आधुनिक समय में लोगों के मेकअप में लाखों रुपए खर्च किए जाते हैं लेकिन ऐसा नहीं है कि सालों पहले लोग मेकअप नहीं करते थे.

वैज्ञानिकों का दावा है किउन्हें इस बात के पहले प्रमाण मिल चुके हैं कि हजारों साल पहले के 'निएंडरथल मानव' अपने शरीर की सजावट के लिए पेंट का प्रयोग करते थे.

'नेशनल एकेडमी ऑफ़ साइंस' में प्रस्तुत की गई एक टीम रिपोर्ट में कहा गया है कि निएंडरथल मानव के मेकअप डिब्बों के अवशेषों से इस बात के प्रमाण मिलते हैं कि वे समुद्र में मिले सीपियों से मेकअप करने का रंग निकालते थे.

टीम का ये भी मानना है कि इस खोज के बाद ये पक्ष निराधार हो जाता है की निएंडरथल मानव कम अक्ल के होते थे.

इस अध्ययन में जुटी टीम का नेतृत्व कर रहे ब्रिटेन की ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जुओं ज़िल्हाओ का कहना है की उनकी टीम के सदस्यों ने कुछ समुद्री घोंघों के कवच से मिले रंगों और उसके कणों की जांच की है.

प्रोफेसर ज़िल्हाओ का कहना था कि हालांकि अफ्रीका के कुछ हिस्सों में इस बात के प्रमाण पहले मिल चुके थे कि आदि मानव इस तरह के रंगों का इस्तेमाल अपने शरीर पर करते थे, लेकिन ये पहले प्रमाण हैं कि निएंडरथल मानव इसे अपने मेकअप के लिए इस्तेमाल में लाए.

वैज्ञानिकों को इस खोज एक दौरान पीले और लाल रंग के भी अवशेष मिले हैं जिसको निएंडरथल आदि मानव मेकअप से पहले लगाए जाने वाले 'फाउन्डेशन' के रूप में प्रयोग करते थे.

इस टीम का ये भी मत है कि संभवत: इस तरह के सीपों और घोंघों का प्रयोग आभूषणों के लिए भी होता था.

शोधकर्ताओं का अभी तक यही मानना रहा है कि मेकअप और सजावट का प्रयोग आधुनिक मानव ने ही करना शुरू किया.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.