BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
मंगलवार, 27 जून, 2006 को 15:03 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
राजीव की हत्या के लिए खेद है: एलटीटीई
 
राजीव गांधी
एक आत्मघाती हमलावर ने 1991 में राजीव गांधी की हत्या कर दी थी
तमिल अलगाववादी नेता एंटन बालासिंघम ने अपने संगठन की ओर से 1991 में पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के लिए भारत से माफ़ी मांगी है.

उन्होंने राजीव गांधी की हत्या को एक ऐतिहासिक त्रासदी बताया है.

उल्लेखनीय है कि 1991 में 21 मई को चेन्नई के पास श्रीपेरंबदूर में एक चुनावी जनसभा के दौरान एक आत्मघाती हमलावर ने राजीव गांधी की हत्या कर दी थी.

तमिल छापामार श्रीलंका में भारतीय शांति सैनिक भेजने के राजीव गांधी के चार साल पहले के एक फ़ैसले से नाराज़ थे.

संवाददाताओं के अनुसार ये पहली बार है कि एलटीटीई ने सार्वजनिक तौर पर राजीव गांधी की हत्या के लिए माफ़ी मांगी है.

बहुत बड़ी त्रासदी

भारतीय टेलीविज़न चैनल एनडीटीवी को एक साक्षात्कार में छापामारों के वरिष्ठ नेता एंटन बालासिंघम ने कहा, "जहाँ तक उस घटना की बात है, मैं कहूँगा कि वो एक बड़ी त्रासदी थी, एक बहुत बड़ी ऐतिहासिक त्रासदी, जिसके लिए हमें बेहत अफ़सोस है."

 हम भारत सरकार और भारत के लोगों से उदारता दिखाने और बीती बातों को भूल कर जातीय सवाल को एक नई दृष्टि से देखने की अपील करते हैं
 
एंटन बालासिंघम

उन्होंने आगे कहा, "हम भारत सरकार और भारत के लोगों से उदारता दिखाने और बीती बातों को भूल कर जातीय सवाल को एक नई दृष्टि से देखने की अपील करते हैं."

एनडीटीवी के अनुसार बालासिंघम ने कहा कि तमिल छापामारों ने भारत को वचन दिया है कि वह उसके नेताओंको आगे से कभी निशाना नहीं बनाएगा.

उन्होंने भारत से श्रीलंका शांति प्रक्रिया में सक्रिया भागीदारी की भी अपील की है.

एनडीटीवी से ही बातचीत में भारत के विदेश राज्यमंत्री आनंद शर्मा ने कहा है कि राजीव गांधी की हत्या के लिए भारत तमिल छापामारों को कभी माफ़ नहीं करेगा.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
दोनों पक्षों से शांतिवार्ता की अपील
28 अप्रैल, 2006 | भारत और पड़ोस
श्रीलंका संकट पर नोर्वे में चर्चा
28 अप्रैल, 2006 | भारत और पड़ोस
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>