पाक-अमरीका के सैन्य अधिकारियों की बातचीत

 गुरुवार, 2 अगस्त, 2012 को 16:39 IST तक के समाचार
जनरल जॉन ऐलन

जनरल जॉन ऐलन पाकिस्तान की यात्रा पर हैं और वे पाकिस्तानी सैन्य अधिकारियों से बातचीत करेंगे.

करीब सात महीनों के गतिरोध के बाद अफ़ग़ानिस्तान के भविष्य पर अमरीका और पाकिस्तान के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों की बातचीत हो रही है.

पाकिस्तानी सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अफ़ग़ानिस्तान में तैनात अमरीका के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी जनरल जॉन ऐलन इस्लामाबाद पहुँच गए हैं और वह पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष जनरल अशफ़ाक़ परवेज़ कियानी के साथ अहम बैठक करेंगे.

उन्होंने बताया कि इस बैठक का मुख्य केंद्र पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान की सीमा पर बढ़ते हुए चरमपंथी हमले और अफ़ग़ानिस्तान का भविष्य है.

सीमा पार हमलों के आरोप

ग़ौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान की सीमा पर चरमपंथी हमलों में बढ़ोतरी हुई है और इसको लेकर पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के संबंधों में काफ़ी तनाव हो गया है.

पाकिस्तान का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान के कुनड़ और नूरिस्तान प्रांतों से चरमपंथी पाकिस्तानी सुरक्षाबलों पर हमले करते हैं और अफ़ग़ानिस्तान इसको रोकने में नाकाम रहा है.

साझा रणनीति

"इस बैठक का मुख्य केंद्र पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान की सीमा पर बढ़ते हुए चरमपंथी हमले और अफ़ग़ानिस्तान का भविष्य है. साथ ही पाक-अफग़ान सीमा पर चरमपंथियों के हमले रोकने के लिए कोई रणनीति बनाई जाएगी."

वरिष्ठ सैन्य अधिकारी, पाकिस्तानी सेना

वहीं अफ़ग़ानिस्तान का कहना है कि पाकिस्तानी चरमपंथी सीमा पार से कुनड़ प्रांत में हमले कर रहे हैं और यह चरमपंथी पाकिस्तानी तालिबान कमांडर मौलाना फज़लुल्लाह के समर्थक हैं.

वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने बताया कि इन तमाम मुद्दों पर अमरीका के साथ खुल कर बातचीत होगी और पाक-अफग़ान सीमा पर चरमपंथियों के हमले रोकने के लिए कोई रणनीति बनाई जाएगी.

अमरीका के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी जॉन ऐलन ऐसे समय में पाकिस्तान की यात्रा पर हैं, जब दोनों देशों ने अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद नेटो सेना के लिए सामान की आपूर्ति को लेकर एक लिखित समझौते पर औपचारिक रुप से हस्ताक्षर किए हैं.

नेटो आपूर्ति बहाल

ग़ौरतलब है कि पिछले साल नवंबर में नेटो हैलिकॉप्टरों ने मोहमंद ऐजेंसी में पाकिस्तानी सेना की एक चौकी पर हमला किया था, जिसमें 24 सैनिक मारे गए और 15 अन्य घायल हो गए थे.

पाकिस्तानी सरकार ने उस हमले का कड़ा विरोध किया था और अफ़ग़ानिस्तान जा रही नेटो आपूर्ति पर रोक लगा दी थी.

भारी अंतरराष्ट्रीय दबाव और अमरीका के साथ बातचीत के बाद पाकिस्तान ने करीब सात महीनों बाद नेटो आपूर्ति को बहाल कर दिया था.

दूसरी ओर पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख लैफ्टिनेंट जनरल ज़हीरुल इस्लाम इन दिनों अमरीका में हैं और वे वरिष्ठ अमरीकी अधिकारियों से मुलाकात कर रहे हैं.

अधिकारियों का कहना है कि उनकी यात्रा का उद्देश्य दोनों देशों के बीच तनाव को कम करना है और सहयोग को और बढ़ाना है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.