BBC navigation

भारत से बिजली खरीदेगा पाकिस्तान

 गुरुवार, 10 मई, 2012 को 19:21 IST तक के समाचार
पाकिस्तान में विरोध प्रदर्शन

पाकिस्तान में बिजली की लंबी कटौती के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं

पाकिस्तान की संसद को बताया गया है कि पाकिस्तान ऊर्जा संकट का सामना करने के लिए भारत, ईरान और ताजिकिस्तान से बिजली खरीदेगा.

पाकिस्तान के पानी और बिजली के केंद्रीय मंत्री सैयद नवीद कमर की ओर से संसद में पेश दस्तावेजों के जरिए बताया गया कि सरकार ने ऊर्जा संकट को खत्म करने के लिए ऐसा करने का फैसला किया है.

संसद के ऊपरी सदन सीनेट में प्रश्नकाल के दौरान उन्होंने अपना लिखित जवाब पेश किया जिसमें लिखा हुआ है कि पाकिस्तान में बिजली की कमी को पूरा करने के लिए भारत, ईरान और ताजकिस्तान से 2600 मेगावॉट बिजली खरीदी जाएगी.

उन्होंने बताया कि पाकिस्तान पहले ही ईरान से 72 मेगावॉट बिजली ले रहा है और 1100 मेगावॉट और खरीदने का फैसला हुआ है.

उनके मुताबिक भारत से 500 मेगावॉट और ताजिकिस्तान से 1000 मेगावॉट बिजली खरीदने का भी फैसला हुआ है और इस पर जल्द काम शुरु हो जाएगा.

मंत्री का कहना था कि बिजली की चोरी को रोकने के लिए भी उचित कदम उठाए जाएँगे हैं और इस संबंध में ट्रांसमिटर लगाए जा रहे हैं.

मंत्री की अनुपस्थिति से हंगामा

इस्लामाबाद स्थित बीबीसी संवाददाता ऐजाज महर के अनुसार जब संसद में इस बारे में दस्तावेज रखे गए तो पानी और बिजली के केंद्रीय मंत्री सैयद नवीद कमर संसद के सत्र में मौजूद नहीं थे.

पीपुल्स पार्टी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार में शामिल मुस्लिम लीग क्यू के वरिष्ठ सांसद कामिल अली आगा ने पंजाब प्रांत में बिजली की लंबी कटौती के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और धमकी दी कि अगर स्थिति बहतर नहीं हुई तो वे सरकार के साथ नहीं चल सकते हैं.

दूसरे सांसदों ने भी बिजली की कटौती के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और मांग की कि केंद्रीय मंत्री को सत्र में बुलाया जाए और इस मुद्दे पर गंभीर रुप से चर्चा की जाए.

विरोध प्रदर्शनों में नवाज शरीफ की पार्टी प्रमुखता से भाग ले रही है

सांसदों के हंगामे और शोर के बाद तय पाया गया कि केंद्रीय मंत्री सैयद नवीद कमर शुक्रवार को संसद के सत्र में भाग लेंगे और सांसदों के विस्तार से जवाब देंगे.

गौरतलब है कि पाकिस्तान इन दिनों बिजली के गंभीर संकट का सामना कर रहा है और कई जगहों पर प्रतिदिन 10 से 15 घंटों की बिजली की कटौती हो रही है. ग्रामीण इलाकों में स्थिति इसे भी ज्यादा खराब है.

लाहौर: मुख्यमंत्री भी सड़क पर उतरे

पाकिस्तान में प्रतिदिन बिजली का उत्पादन करीब 10000 मेगावॉट है जबकि मांग 16000 मेगावॉट के करीब है.

बिजली की लगातार ही रही कटौती के खिलाफ देश भर में व्यापक स्तर पर विरोध प्रदर्शन भी हो रहे हैं और विरोध प्रदर्शन का सबसे ज्यादा असर पंजाब प्रांत में देखा जा रहा है.

लाहौर में हुए विरोध प्रदर्शन में पंजाब के मुख्यमंत्री शहबाज शरीफ ने भी भाग लिया और बिजली की कटौती के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया.

पंजाब प्रांत में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी मुस्लिम लीग नवाज की सरकार है और उनके भाई शहबाज शरीफ प्रांत के मुख्यमंत्री पद पर हैं जबकि केंद्र में यही पार्टी विपक्ष में है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.