BBC navigation

लाभदायक रही जरदारी की 'दरगाह कूटनीति'

 सोमवार, 9 अप्रैल, 2012 को 07:40 IST तक के समाचार
जरदारी

पाकिस्तान के अधिकतर समाचार पत्रों ने राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की भारत यात्रा को दोनों देशों के संबंधों के लिए काफी लाभदायक बताया है.

अधिकतर अखबारों ने राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी और प्रधानममंत्री मनमोहन सिंह की तस्वीर को पहले पन्नों पर प्रकाशित किया है, जिसमें वह एक दूसरे के दोनों हाथ थामे कड़े हैं.

अंग्रेज़ी अखबार ‘पाकिस्तान टुडे’ लिखता है कि राष्ट्रपति आसिफ जरदारी की 'दरगाह कूटनीति' काफी लाभदायक रही और जिस तरह से भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पाकिस्तान आने का न्योता दिया गया और उन्होंने स्वीकार भी कर लिया, यह दोनों देशों के संबंधों को ओर मजबूत करेगा.

अखबार आगे लिखता है कि राष्ट्रपति ज़रदारी की निजी यात्रा के दौरान दिल्ली में सभी मुद्दों पर खुल कर बातचीत करना बहुत ही महत्वपूर्ण है.

अहमियत

अंग्रेज़ी के एक और अखबार ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ ने कांग्रेस के महासचिव राहुल गाँधी की तस्वीर और उनकी खबर को पहले पन्ने पर जगह दी है.

"राष्ट्रपति आसिफ जरदारी की 'दरगाह कूटनीति' काफी लाभदायक रही और जिस तरह से भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पाकिस्तान आने का न्योता दिया गया और उन्होंने स्वीकार भी कर लिया, यह दोनों देशों के संबंधों को ओर मजबूत करेगा."

पाकिस्तान टुडे

खबर में लिखा हुआ है कि सत्ताधारी दल पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने अपनी यात्रा के दौरान कांग्रेस के युवा नेता राहुल गाँधी से मुलाकात की और उन्हें पाकिस्तान आने का न्योता भी दिया, जिसको स्वीकार भी कर लिया गया.

अखबार ने राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी की एक दिवसीय भारत यात्रा पर संपादकीय भी लिखा है जिसमें इस बात पर बल दिया गया है कि दोनों देशों को चाहिए कि वह सियाचिन से अपनी सेनाओं को निकालें ताकि वह अप्रिय घटनाओं से बच सकें.

गौरतलब है कि कश्मीर के विवादित इलाके सियाचिन में हिमस्खलन की वजह से कम से कम 135 पाकिस्तानी सैनिक दब गए हैं.

अवसर

अखबार ‘द नेशन’ ने भी राहुल गाँधी की खबर को प्रमुखता से छापा है. खबर में लिखा हुआ है कि राष्ट्रपति आसिफ जरदारी की भारत यात्रा के दौरान दो राजनीतिक परिवारों की नई पीढ़ी को मिलने का अवसर मिला.

बिलावल भुट्टो

बिलावल भुट्टो को भी अखबारों में खूब जगह मिली है

अखबार आगे लिखता है कि बिलावल भुट्टो जरदारी ने राहुल गाँधी को पाकिस्तान आने की दावत दी और उन्होंने कबूल कर ली, जो कि दोनों देशों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है.

उर्दू के अखबार रोजनामा एक्सप्रेस ने बीबीसी के हवाले से खबर दी है कि भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की पाकिस्तान यात्रा की सितंबर में संभावना है और विदेश मंत्री एसएम कृष्णा जल्द पाकिस्तान आएँगे.

अधिकतर अखबारों ने बिलावल भुटटो जरदारी की खबर को भी प्रमुखता से छापा है, जब वे भारतीय सरजमीन पर उतरे तो उन्होंने ट्विटर पर अपने संदेश लिखना शुरू कर दिया.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.