पाक में सवा लाख लोग हुए बेघर : संयुक्त राष्ट्र

 शनिवार, 31 मार्च, 2012 को 14:03 IST तक के समाचार

पाकिस्तान के कबायली इलाक़े खैबर एजेंसी में इसी साल जनवरी से चरमपंथियों के खिलाफ सैन्य अभियान जारी है

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि पाकिस्तान के कबायली इलाके खैबर एजेंसी में सैन्य अभियान के कारण करीब एक लाख से अधिक लोग अपने घर छोड़ने पर विवश हो गए हैं.

शरणार्थियों के मामलों से जुड़ी संस्था यूएनएचसीआर की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि खैबर पख्तूनख़्वाह प्रांत के शहर नौशहरा के करीब स्थित जलोज़ई शिविर में शरणार्थियों की संख्या 62 हजार तक पहुँच गई है.

बयान में कहा गया है कि हाल के दिनों में सैन्य अभियान तेज हुआ है जिसकी वजह से बड़ी संख्या में शरणार्थी जलोज़ई शिविर पहुँचे हैं, जहाँ उन्हें मूल सुविधाएँ मुहैया कराई जा रही हैं.

शिविर में नहीं रहना चाहते

बयान में कहा गया है कि हाल के दिनों में सैन्य अभियान तेज हुआ है जिसकी वजह से बड़ी संख्या में शरणार्थी जलोज़ई शिविर पहुँचे हैं, जहाँ उन्हें मूल सुविधाएँ मुहैया कराई जा रही हैं.

खैबर पख्तूनख्वाह प्रांत में शरणार्थियों के लिए काम करने वाले वरिष्ठ अधिकारी फैज़ मोहम्मद फैज़ी ने बीबीसी को बताया, ''30 जनवरी से अब तक 30 हज़ार परिवार जलोज़ई शिविर पहुँचे हैं और उनमें से 22 हज़ार परिवारों का पंजीकरण हो चुका है.''

उन्होंने कहा कि इन 22 हज़ार परिवारों में से करीब 18 हज़ार परिवारों ने ख़ुद अपनी मर्ज़ी से यह फैसला लिया कि वो शिविर में नहीं रहना चाहते हैं.

उनके मुताबिक, खैबर एजेंसी से विस्थापित हुए लोगों की संख्या एक लाख से अधिक हो गई है.

यूएनएचसीआर का कहना है कि 17 मार्च से प्रतिदिन दो हज़ार परिवारों का पंजीकरण किया जा रहा है, जो सैन्य अभियान के कारण अपने घर छोड़ने पर विवश हुए.

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान के कबायली इलाक़े खैबर एजेंसी में इस साल जनवरी से चरमपंथियों के खिलाफ सैन्य अभियान जारी है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.