पेशावर में धमाके, 34 की मौत

पाकिस्तान में पुलिस का कहना है कि पेशावर शहर में हुए दो धमाकों में कम से कम 34 लोगों की मौत हो गई है जबकि 100 से ज़्यादा लोग घायल हुए हैं. ये विस्फोट पेशावर के एक बाज़ार में हुआ.

धमाके शनिवार को आधी रात के बाद ऐसे इलाक़े में हुए जहाँ कई राजनीतिक पार्टियों के दफ़तर हैं और सेना से जुड़े लोगों के मकान हैं.

पेशावर के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी दोस्त मोहम्मद ने एपी को बताया कि आधी रात के बाद स्थानीय बाज़ार में एक धमाका हुआ था जिसके बाद वहाँ पुलिस और राहतकर्मी पहुँच गए थे.

इसके चंद मिनट बाद ही वहाँ दूसरा बड़ा धमाका हुआ जिसमें कई लोग हताहत हो गए थे.

हमलों में बढ़ोतरी

पुलिस अधिकारी दोस्त मोहम्मद का कहना है कि शुरुआती रिपोर्टों से संकेत मिलते हैं कि दूसरा धमाका विस्फोटकों के ज़रिए हुआ जो एक वाहन में छिपाए गए थे. विस्फोट रिमोट से किया गया. लेकिन पहले धमाके का कारण पता नहीं चल पाया है.

पेशावर में धमाके ऐसे समय हुए हैं जब अफ़ग़ान राष्ट्रपति हामिद करज़ई इस्लामाबाद आए हुए थे.

पिछले महीने पाकिस्तान में अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन अमरीकी कार्रवाई में मारे गए थे. उसके बाद दक्षिणी वज़ीरिस्तान में हुए अमरीकी ड्रोन हमले में मुंबई हमलों में कथित रूप से 'शामिल' और अल-क़ायदा के क़रीबी चरमपंथी नेता इलियास कश्मीरी की मौत हो गई थी.

उसके बाद से पाकिस्तान में चरमपंथियों के हमलों में बढ़ोतरी हुई है.

अभी कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान के उत्तर पश्चिमी वज़ीरिस्तान में 100 से ज़्यादा तालिबान चरमपंथियों ने एक सुरक्षा चौकी पर हमला कर दिया था. इसमें कम से कम 12 तालिबान लड़ाके और आठ सैनिक मारे गए थे. ऐसा पहली बार हुआ था कि तालिबान लड़ाकों ने इतनी ताकत का इस्तेमाल करते हुए भीषण हमला किया था.

BBC navigation

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.