मृत ओसामा की छाती पर चढ़ बैठा सैनिक: नई किताब

 गुरुवार, 30 अगस्त, 2012 को 11:59 IST तक के समाचार

पिछले साल हुई ओसामा बिन लादेन की मौत कई मायनों में अब भी रहस्यों में घिरी हुई है. ओसामा के खिलाफ अंतिम अभियान में शामिल एक नेवी सील ने किताब लिखी है. एपी का दावा है कि किताब में ओसामा की मौत से जुडा ब्यौरा आधिकारिक जानकारी से मेल नहीं खाता.

समाचार एजेंसी एपी ने ‘नो इज़ी डे’ नाम की इस किताब की एडवांस कॉपी खरीदी है. ये किताब ओसामा अभियान के बारे में एक पूर्व नेवी सील का गैर आधिकारिक ब्यौरा है.

एपी के मुताबिक किताब में लिखा है कि जब नेवी सील ओसामा के बेडरूम की तरफ बढ़ रहे थे और ओसामा ने बेडरूम से बाहर झाँककर देखा था उसी समय उन्हें मार दिया गया था.

जबकि अमरीकी अधिकारी कहते आए हैं कि ओसामा पर गोली तब मारी गई थी जब वे अपने बेडरूम की ओर भागे थे. अधिकारियों का कहना था कि ओसामा की हरकतें ऐसी दर्शा रही थीं कि वे शायद कोई हथियार ढूँढ रहे हैं.

दोनों ब्यौरों में ये कथित विरोधाभास किताब को लेकर चल रहे विवाद को और हवा देगा.

'ओसामा के शरीर में हरकत पर गोली दागी'

किताब के लेखक का कहना है, “जो ‘प्वाइंट मैन’ सीढ़ियों तक जा रहा था मैं बिल्कुल उसके पीछे था. जब हम सीढ़ियों के बिल्कुल नजदीक थे मैने धीमी गोलीबारी सुनी. प्वाइंट मैन ने एक व्यक्ति को दरवाजे से झाँकते हुए देखा था.”

एपी के अनुसार लेखक ने ये भी लिखा है कि ओसामा वापस अपने बेडरूम में चले गए और नेवी सील्स उनके पीछे पीछे आए लेकिन सील्स ने देखा कि ओसामा खून से सने जमीन पर गिरे हुए हैं और सर की दाईं ओर एक छेद था और दो महिलाएँ रो रही थीं.

एपी ने लेखक के हवाले से लिखा है कि कैसे दोनों महिलाओं को रास्ते से हटाया गया और नेवी सील्स ने थोड़े बहुत हिलते ओसामा के शरीर में कई गोलियाँ दाग दीं. नेवी सील्स को बाद में वहाँ से दो हथियार मिले.

जबकि ओबामा प्रशासन के अधिकारियों के मुताबिक ओसामा बिन लादेन को तब गोली मारी गई जब वे भागकर अपने बेडरूम में चले गए- ऐसी आशंका थी कि वो शायद हथियार लेने गए हों.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता टॉमी वाइटॉर ने बीबीसी की कहानी छपने तक इस मामले पर प्रतिक्रिया नहीं दी है.

गुप्त जानकारी

ये किताब मार्क ओवन के छदम नाम से लिखी गई है. लेकिन किताब के बारे में पता चलने के कुछ घंटे बाद ही फॉक्स न्यूज ने असली लेखक का नाम उजागर कर दिया था.

सैन्य अधिकारियों का ये भी कहना है कि प्रकाशकों ने किताब पेंटागन को नहीं दी है ताकि वो ये देख सकें कि इसमें कोई गुप्त जानकारी तो साझा नहीं की गई है जैसा कि प्रोटोकॉल होता है. पेंटागन अब किताब के तथ्यों की पड़ताल कर रहा है.

पहले ये किताब 11 सितंबर को जारी की जानी थी लेकिन अब इसे चार सितंबर को ही जारी कर दिया जाएगा क्योंकि बड़ी संख्या में एडवांस ऑडर मिलने के बाद ये किताब एमेजन.कॉम और बार्नसएंडनोबल.डॉम में बेस्टसेलर की लिस्ट में पहुँच गई है.

वाशिंगटन में बीबीसी के पॉल एड्म्स का कहना है कि लेखक के मुताबिक ओसामा अभियान को लेकर शुरुआती आधिकारिक ब्यौरे गुमराह करने वाले थे.

लेखक का कहना है कि इस पूरे अभियान को किसी बुरी एक्शन फिल्म की तरह रिपोर्ट किया गया.

कैसे दफनाया गया ओसामा को

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि ये कोई हैरत की बात नहीं है क्योंकि अभियान के बाद के दिनों में व्हाइट हाउस की कई बातों में विरोधाभास था.

किताब में ये भी बताया गया है कि अमरीकी कमांडो राष्ट्रपति ओबामा के कोई ‘खास प्रशंसक’ नहीं थे हालांकि उन्होंने ओसामा अभियान शुरु करने के राष्ट्रपति के फैसले का स्वागत किया था.

एपी के मुताबिक किताब में ये भी कहा गया है कि जब ओसामा का शव समुद्र में बहाया गया था उस समय हेलीकॉप्टर में जगह की कमी थी और नेवी सील्स का एक सदस्य ओसामा की छाती पर बैठा था.

जबकि अमरीकी अधिकारियों का दावा ये रहा है कि ओसामा के शव को सम्मानजनक तरीके से दफनाया गया.

ये किताब अमरीका में पेंगुइन का डुटोन इम्प्रिंट गुट प्रकाशित कर रहा है और उसका कहना है कि ये उस अभियान का सिलसिलेवार ब्यौरा है.

गुट ने पहले कहा था कि किताब को एक पूर्व स्पेशल ऑपरेशन्स वकील ने परखा है कि उसमें किस तरह की जानकारियाँ हैं और कौन सी जानकारी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा नहीं है.

लेकिन पेंटागन, सीआईए और व्हाइट हाउस ने प्रकाशन से पहले किताब की समीक्षा नहीं की है. अधिकारियों ने आगाह किया है कि अगर गुप्त जानकारी को गलत तरीके से जारी किया तो आपराधिक आरोप लग सकते हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.