अमरीका में बंद हो रहे हैं ऑर्केस्ट्रा

 मंगलवार, 17 जुलाई, 2012 को 02:56 IST तक के समाचार

अमरीका में ऑर्केस्ट्रा को बस पुरानी पीढ़ी का सहारा है, नई पीढी इसके ज्यादा करीब नहीं है

अमरीका में पेशेवर ऑर्केस्ट्रा की कोई कमी नहीं है. यहां ऐसे तीन सौ से ज्यादा ऑर्केस्ट्रा हैं. लेकिन ऑर्केस्ट्रा से जुड़े लोग फिर भी परेशान हैं क्योंकि धंधा मंदा हो रहा है. कई छोटे-मोटे ऑर्केस्ट्रा पूरी तरह बंद हो चुके हैं.

चालीस साल पहले वेंगनर में यूजीन ओरमेंडी की टीम ने ऑर्केस्ट्रा का बेहतरीन प्रदर्शन किया था. इसके बाद फिलाडेल्फिया ऑर्केस्ट्रा पूरी तरह से छा गया था.

लेकिन पिछले साल की ही बात है जब फिलाडेल्फिया ऑर्केस्ट्रा का दिवाला निकलने की नौबत आ गई. तब जाहिर तौर पर ये सवाल उठा कि फिलाडेल्फिया का ऐसा हाल होगा तो बाकी ऑर्केस्ट्रा का क्या होगा?

पीढ़ी का अंतर

ऑर्केस्ट्रा से जुड़े एटम कहते हैं कि उन पर संगीत का सुरूर हर वक्त छाया रहता है, लेकिन समस्या ये है कि अब उन्हें नई पीढ़ी का साथ नहीं मिल रहा है.

"हमारे बजट में लगभग पचास प्रतिशत की कटौती हुई है. ज्यातादर ऑर्केस्ट्रा की यही समस्या है. संगीत को लेकर लोगों का टेस्ट बदल गया है. ये अमरीका का ही मामला नहीं है, शायद पूरी दुनिया में ऐसा हो रहा है. बड़े-बड़े कलाकारों का मेहनताना कम हो गया है"

रोचेस्टर केन केन

ऐसे ही एक अन्य ऑर्केस्ट्रा का नाम है रोचेस्टर फिल्हार्मोनिक जिसकी स्थापना वर्ष 1922 में हुई थी.

रोचेस्टर ने बड़ा नाम कमाया लेकिन अब इसके सामने भी आर्थिक चुनौतियां हैं.

रोचेस्टर केन केन कहते हैं, ''हमारे बजट में लगभग पचास प्रतिशत की कटौती हुई है. ज्यातादर ऑर्केस्ट्रा की यही समस्या है. संगीत को लेकर लोगों का टेस्ट बदल गया है.''

वे कहते हैं, ''ये अमरीका का ही मामला नहीं है, शायद पूरी दुनिया में ऐसा हो रहा है. बड़े-बड़े कलाकारों का मेहनताना कम हो गया है.''

अमरीका में ऑर्केस्ट्रा की एक बड़ी समस्या ये है कि इसे सुनने आने वाले लोगों में 45 साल से कम उम्र के लोग बहुत कम होते हैं. यानी पुरानी पीढ़ी के लोग ही इसे सुन रहे हैं.

पसंद-नापसंद का सवाल

रोचेस्टर फिल्हार्मोनिक के ही पड़ोस में है साइराक्यूस सिम्फनी, जो हाल के दिनों में बंद हो गया. होनोलुलु सिम्फनी की भी यही हाल हुआ, ये भी बंद हो गया.

अमरीकी ऑर्केस्ट्रा लीग के प्रमुख जेसी रोज़ेन कहते हैं कि उनकी दो चिंताएं हैं. पहली ये कि ऑर्केस्ट्रा की माली हालत खराब हो रही है, और दूसरी ये कि ऑर्केस्ट्रा अमरीकी युवाओं को अपनी ओर खींच नहीं पा रहा है.

वे कहते हैं, ''तकनीक इस बात पर बड़ा असर डाल रही है कि लोगों को क्या पसंद आता है, क्या पसंद नहीं आता है. यहां तक कि फिल्मों और खेलों पर भी इसका असर पड़ रहा है.''

यानी सारा मामला युवाओं की पसंद-नापसंद का है. शायद यही वजह है कि अमरीका की युवा पीढ़ी जब तक आर्केस्ट्रा के करीब नहीं आएगी, तब तक यहां ऑर्केस्ट्रा के भविष्य पर संकट मंडराता रहेगा.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.