BBC navigation

भारत में निवेश के माहौल पर ओबामा चिंतित

 रविवार, 15 जुलाई, 2012 को 16:35 IST तक के समाचार
बराक ओबामा

बराक ओबामा ने संकेत दिए हैं अमरीकी व्यवसायी विदेशी निवेश का रास्ता खोलने के पक्ष में हैं

रीटेल जैसे कई क्षेत्रों में विदेशी निवेश पर प्रतिबंध की ओर संकेत करते हुए अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारत में निवेश ने बिगड़ते माहौल पर चिंता जाहिर की है और आर्थिक सुधार के एक दौर की वकालत की है.

इसके बाद भी भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर आशान्वित नज़र आ रहे बराक ओबामा ने कहा हालांकि 'भारतीय अर्थव्यवस्था प्रभावशाली ढंग से विकास कर रही है' लेकिन जो विकास की दर में जो थोड़ी कमी दिखाई दे रही है वह वैश्विक मंदी का असर है.

समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए गए साक्षात्कार में बराक ओबामा ने भारत की अर्थव्यवस्था, वैश्विक अर्थव्यवस्था, भारत-पाक संबंध से लेकर एशिया-प्रशांत को लेकर अमरीकी रणनीति तक कई विषयों पर सवालों के जवाब दिए.

आर्थिक सुधार की वकालत

"ऐसा प्रतीत होता है कि भारत में इस बात को लेकर सहमति बन रही है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की प्रतिस्पर्धा में बने रहने के लिए ये जरुरी है कि आर्थिक सुधारों को एक और दौर शुरु हो"

बराक ओबामा

वैसे राष्ट्रपति ओबामा ने भारत में निवेश के नकारात्मक माहौल को लेकर सीधी आलोचना नहीं की है लेकिन उन्होंने अमरीकी व्यावसायियों के हवाले से अपनी चिंता ज़ाहिर की है.

उन्होंने कहा कि अमरीकी व्यावसायिक समुदाय भारत-अमरीका के बीच भागीदारी की अहम कड़ी है और इस समुदाय के कई लोगों ने चिंता जताई है कि भारत में निवेश का माहौल बिगड़ रहा है.

ओबामा ने कहा, "वे बताते हैं कि भारत में निवेश करना अभी भी कठिन है. कई क्षेत्रों में, जैसे कि रीटेल या खुदरा क्षेत्र में विदेश निवेश पर रोक है, जबकि इसमें विदेशी निवेश दोनों देशों में रोज़गार पैदा करने और विकास जारी रखने के लिए ज़रुरी है."

भारत को आर्थिक दिक्कतों से जूझने के लिए कोई रास्ता बताने से बचते हुए अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा, "अमरीका भारत सहित दूसरे देशों को ये नहीं बता सकता कि वे अपने आर्थिक भविष्य का रास्ता कैसे तय करें. यह फैसला भारतीयों को ही करना होगा."

बराक ओबामा ने कहा, "ऐसा प्रतीत होता है कि भारत में इस बात को लेकर सहमति बन रही है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की प्रतिस्पर्धा में बने रहने के लिए ये जरुरी है कि आर्थिक सुधारों को एक और दौर शुरु हो."

सुपर स्टोर

अमरीका चाहता है कि भारत में खुदरा क्षेत्र में विदेशी निवेश को जल्दी मंज़ूरी मिले

उनका कहना था कि यदि भारत मुश्किलों से भरे लेकिन आवश्यक आर्थिक सुधार करता है तो अमरीका एक भागीदार के रुप में हमेशा साथ रहेगा.

पिछले दशकों में भारत के आर्थिक विकास का ज़िक्र करते हुए बराक ओबामा ने कहा कि भारत ने दसियों लाख लोगों को गरीबी रेखा से उबार कर दुनिया का सबसे बड़ा मध्य वर्ग तैयार किया है.

बराक ओबामा ने कहा कि आर्थिक जीवंतता और प्रतिस्पर्धा को सहारा देने वाले स्तंभों को मज़बूत बनाते रहना होगा, जिसमें दोनों देशों के लोगों की शिक्षा, विज्ञान और तकनीक और आधुनिक ढाँचे का निर्माण शामिल है जिससे कि माल ढुलाई और सेवाओं में तेज़ी लाने में सहायता मिल सके.

भ्रष्टाचार पर उन्होंने कहा, "हमें भ्रष्टाचार से लड़ाई जारी रखना होगा, जो नए तरीकों का गला घोंट देता है और ये दुनिया भर में रोजगार पैदा करने और आर्थिक विकास की राह में सबसे बड़ा रोड़ा है."

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.