BBC navigation

औरत-मर्द की दोस्ती में सेक्स का अड़ंगा?

 रविवार, 6 मई, 2012 को 07:52 IST तक के समाचार
महिला और पुरुष

इस शोध में पुरुष को सेक्स के मामले में मौकापरस्त बताया गया है.

एक ज़माना था जब औरत और मर्द के बीच के रिश्तों की पहचान सिर्फ़ सेक्स संबंधों के रूप में ही की जाती थी.

लेकिन आधुनिक समाजों में औरत और मर्द के बीच सिर्फ़ दोस्ती होना आम बात माना जाता है.

और आम तौर पर ऐसी दोस्ती को सामान्य बात समझा जाने लगा है.

लेकिन थोड़ा ठहरिए !

विसकॉनसिन-औ क्लैर विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने गहन अध्ययन के बाद नतीजा निकाला है कि औरत और मर्द की दोस्ती में सेक्स का तत्व लगभग हर वक़्त मौजूद रहता है.

'मौकापरस्त मर्द'

‏‏शोधकर्ताओं का कहना है कि खास तौर पर सेक्स के मामले में मर्द मौकापरस्त होता है.

हालाँकि लोग ऐसे संबंधों को भावनात्मक बताते हैं लेकिन लगभग 400 व्यक्तियों पर शोध के बाद नतीजा निकला है कि मर्द दरअसल कुछ अलग तरीक़े से सोचते हैं.

शोध के नतीजे बताते हैं कि आदमी अपनी महिला मित्रों से भी सेक्स की आस लगाए रहते हैं.

प्रेम की भावनाओं का इज़हार मर्द ही पहले करता है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि महिला-पुरुष के बीच दोस्ताना संबंध मानव की विकासयात्रा में बहुत नई बात है.

इसलिए महिला मित्रों के प्रति मर्दों का व्यवहार अब भी कामुक भावनाओं से ही नियंत्रित रहता है.

पहल मर्द की

इस शोध के प्रमुख लेखक एप्रिल ब्लेस्क रेचेक ने बताया कि प्रयोग का मकसद था इसमें हिस्सा लेने वाली महिलाओं और आदमियों के बीच आकर्षण का पता लगाना.

और पता ये लगा कि अगर किसी जोड़े में से एक की ओर से यौन इच्छा दिखाई गई तो लगभग हर बार वो मर्द की ओर से ही दिखाई गई.

इस प्रयोग के दौरान विपरीत लिंगी जोड़ों को अलग अलग समूहों में बाँटकर एकांत कमरों में भेजा गया.

वहाँ उनसे कुछ सवालों के जवाब देने को कहा गया.

इसके बाद ही ये नतीजा निकला कि मर्द कहे चाहे जो भी, अपनी महिला मित्रों के लिए उसकी नज़र में सिर्फ़ भावनात्मक लगाव ही नहीं होता.

जैसा कि शोध करने वालों ने कहा, सेक्स के मामले में मर्द दरअसल मौकापरस्त होता है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.