BBC navigation

काबुल: छिपे चरमपंथियों पर सेना का हमला

 सोमवार, 16 अप्रैल, 2012 को 08:28 IST तक के समाचार

अफगानिस्तान की सेना ने एक इमारत में छिपे तालिबान लड़ाकूओं पर हमला बोल दिया है.

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में सोमवार सुबह फिर धमाके और गोलीबारी शुरू हो गई है.

अफगान सेनाओं ने रॉकेट से चलने वाले ग्रेनेड से उस इमारत पर हमला किया है जहां गोली-बारूद से लैस तालेबान लड़ाकू छिपे हुए हैं.

रविवार को तालेबान विद्रोहियों ने राजधानी काबुल और साथ ही कई देश के अलावा कई अन्य हिस्सों पर बड़े हमले किए थे.

काबुल में हुए हमलों में अमरीकी, रूसी और जर्मन दूतावासों के आलावा नैटो के दफ्तर को निशाना बनाया गया. काबुल में शहर के भिन्न भिन्न हिस्सों से रात ढलने के बाद भी गोलीबारी की आवाजें आती रहीं.

अफगान सरकार का कहना है कि तालेबान हमलावरों में से कम से कम 17 को जान से मार दिया गया है. साथ ही एक पुलिस अफसर के मारे जाने की खबर है.

दूतावासों पर निशाना

रविवार के हमलों में ब्रितानी दूतावास को निशाना बनाया गया और उसके गार्ड टावर पर दो रॉकेट दागे गए. साथ ही रूसी दूतावास को भी निशाना बनाया गया है.

अफगानिस्तान की राष्ट्रीय संसद के पास भी भीषण गोलीबारी हुई. संसद के पास स्थित एक इमारत से चरमपंथियों ने संसद पर हमला किया. काबुल के काबुल स्टार होटल में भी आग लगाई गई थी.

हमलों के फौरन बाद तालिबान ने इन हमलों की जिम्मेदारी ली.

बयान में दावा किया गया कि आत्मघाती हमलावर विस्फोटकों से लैस आत्मघाती पट्टियों, रॉकेट लॉंचल और ग्रेनेडों से लैस हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.