BBC navigation

'लव होटलों' में ठहरेंगे पर्यावरण प्रहरी !

 गुरुवार, 12 अप्रैल, 2012 को 05:03 IST तक के समाचार
लव होटल

ब्राज़ील के लव होटलों में बिस्तर से लेकर फर्नीचर तक कामोत्तेजक हैं.

ब्राजील के कुछ प्रसिद्ध होटलों में सिर्फ़ छिपकर प्यार करने वाले जोड़े जाते हैं. इन्हें ‘लव होटल’ कहा जाता है.

लेकिन इस साल जून में इन लव होटलों में प्यार करने वालों को नहीं बल्कि दुनिया को विनाश से बचाने की चिंता करने वाले लोगों को ठहराया जाएगा.

इनमें दुनिया के तमाम देशों के नेता भी शामिल होंगे.

ब्राजील के रियो दे जनेरो शहर में इस साल संयुक्त राष्ट्र का पर्यावरण संबंधी अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन होने वाला है जिसमें हिस्सा लेने के लिए 50 हज़ार प्रतिनिधियों के शहर में आने की उम्मीद है.

लेकिन शहर के सामान्य होटलों में सिर्फ़ 30 हज़ार कमरे हैं.

इसलिए ‘लव होटल’ मालिकों ने अपनी सेवाएँ देने का फ़ैसला किया है.

उत्तेजक फर्नीचर

"ये थोड़ा अटपटा तो होगा कि आम तौर पर हमारे पास आने वाले ग्राहक उस दौरान नहीं आएँगे लेकिन वो भी समझते हैं कि विदेशी मेहमानों को ठहराने की ज़िम्मेदारी भी हमारी है."

होटल मालिक, सेकन्दीनो लीमा

आम तौर पर प्रेमी युगलों से इन ‘लव होटलों’ में घंटे के हिसाब से पैसा लिया जाता है.

लेकिन विदेशी मेहमानों की भारी भीड़ को देखते हुए होटल मालिक 160 डॉलर पर कमरा देने को तैयार हैं.

मेहमानों को देखते हुए इन होटलों के कमरों की साज सज्जा में भी बदलाव किया गया है.

वैसे तो यहाँ उत्तेजक किस्म का फर्नीचर रहता है और बिस्तरे के ठीक ऊपर छत पर आइने लगे होते हैं जिनमें प्रेमी युगल ख़ुद को काम क्रीड़ा करते देख सकते हैं.

पर अब फ़र्नीचर बदला जा रहा है, हालाँकि छत के आइने वैसे ही रहेंगे.

मौके और भी

एक होटल के मालिक सेकन्दीनो लीमा कहते हैं, “ये थोड़ा अटपटा तो होगा कि आम तौर पर हमारे पास आने वाले ग्राहक उस दौरान नहीं आएँगे लेकिन वो भी समझते हैं कि विदेशी मेहमानों को ठहराने की ज़िम्मेदारी भी हमारी है.”

ब्राज़ील में ‘लव होटल’ का व्यापार पिछले कुछ बरसों में काफ़ी चल निकला है.

पर विश्व पर्यावरण सम्मेलन के बाद इन होटल मालिकों के लिए व्यापार बढ़ाने के और भी मौक़े आएँगे.

शहर में विश्व फ़ीफ़ा फुटबॉल प्रतियोगिता 2014 में होनी है और 2016 में ओलंपिक यहाँ होंगे.

तो ‘लव होटल’ वालों की पौ बारह, प्रेमी जोड़े भले ही कसमसाते रहें !

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.