साइबर युद्ध की तैयारी कर रहा है चीन: अमरीका

 शनिवार, 10 मार्च, 2012 को 05:28 IST तक के समाचार

रिपोर्ट में कहा गया है कि सैन्य या असैन्य तंत्र पर बड़े पैमाने पर साइबर हमले का समुचित जवाब देने के लिए अमरीका के पास नीति का अभाव है

अमरीकी कांग्रेस के लिए तैयार की गई एक रिपोर्ट में कहा गया है कि टकराव की नौबत आने पर चीन की साइबर युद्ध की क्षमता अमरीकी सेना के लिए एक बड़ा खतरा साबित हो सकती है.

कांग्रेस के एक आयोग द्वारा प्रकाशित इस रिपोर्ट में कहा गया है कि दुश्मन के कम्प्यूटरों पर कब्जा करने के लिए चीन संवेदनशील सूचना युद्ध तंत्र विकसित कर रहा है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि ताइवान के साथ टकराव की स्थिति में चीन, अमरीका की कम्प्यूटर प्रणालियों पर हमला कर सकता है.

चीन की तैयारी

रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन के सैन्य अधिकारी एक दशक या इससे भी ज्यादा समय से साइबर स्पेस में युद्ध की बात करते रहे हैं लेकिन हाल के वर्षों में वो अभ्यास के दौरान बतौर परीक्षण हमला करने की स्थिति में आ गए हैं.

अमरीका-चीन आर्थिक और सुरक्षा समीक्षा आयोग के लिए नॉर्थरोप ग्रूमेन द्वारा तैयार की गई इस रिपोर्ट के मुताबिक, पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) अमरीका की युद्ध क्षमता को बाधित करने के लिए पहले उसके परिवहन और साजो-सामान तंत्र को निशाना बनाएगा.

इसमें कहा गया है कि चीन की सेना ने वर्ष 2010 में इस तरह का एक अभ्यास भी किया था.

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस तरह के अभ्यास इस बात के सुबूत हैं कि चीन अपनी सेना को साइबर युद्ध के लिए तैयार कर रहा है और वो इस क्षेत्र में शोध के लिए धन भी मुहैया करा रहा है.

हालांकि इस रिपोर्ट में इस बात का कोई सुबूत पेश नहीं किया गया है कि चीन अमरीकी ठिकानों को निशाना बना सकता है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.