BBC navigation

रूसी प्रधानमंत्री पुतिन को गांवों ने दिलाई गद्दी

 सोमवार, 5 मार्च, 2012 को 14:02 IST तक के समाचार

पुतिन के हजारों समर्थक रूस के राष्ट्रीय ध्वज और बैनरों के साथ क्रेमलिन के बाहर जमा हुए.

रूस के प्रधानमंत्री व्लादिमीर पुतिन ने राष्ट्रपति पद के चुनाव में 64 फीसदी वोटों के साथ अहम जीत दर्ज की है.

ये रविवार को हुए राष्ट्रपति पद के लिए मतदान के बाद आए एग्जिट पोल में अनुमानित 60 फीसदी वोट से भी ज्यादा है.

सोमवार को जारी आधिकारिक नतीजों के मुताबिक पुतिन अपने सबसे नजदीकी प्रतिद्वंदी, वामपंथी पार्टी के नेता गेनडी ज्यूगानोव (17 फीसदी वोट) से बहुत आगे रहे.

पुतिन इससे पहले भी रूस में दो कार्यकालों के लिए राष्ट्रपति रह चुके हैं और वे विगत चार वर्षों से देश के प्रधानमंत्री हैं. मुख्य चुनाव आयोग के मुताबिक इस चुनाव में 64 फीसदी मतदाताओं ने अपने मतदान का प्रयोग किया है.

समर्थन का जश्न

पुतिन के जीतने की खबरे के बाद से ही मॉस्को के मेनेज़ स्कवायर में पुतिन समर्थक हजारों की संख्या में इकठ्ठा होकर नाच, गा रहे हैं.

जीत के जश्न में शामिल स्थानीय नागरिक लेना और वाडिन ने कहा, "मीडिया का ध्यान सिर्फ मॉस्को तक ही सीमित है, असलीयत ये है कि पुतिन रूस के सभी भागों में काफी लोकप्रिय है. उन्हें गांवों में भी अच्छा समर्थन प्राप्त है. बूढ़े लोगों को अतिरिक्त पेंशन देने की योजना हो या सब्सीडी देने की योजना, पुतिन ने सभी के लिए कुछ न कुछ किया है."

"मीडिया का ध्यान सिर्फ मॉस्को तक ही सीमित है, असलीयत ये है कि पुतिन रूस के सभी भागों में काफी लोकप्रिय है. उन्हें गांवों में भी अच्छा समर्थन प्राप्त है."

लेना और वाडिन, स्थानीय निवासी, मोस्को

वहीं मौजूद एक और रूसी नागरिक मिखाइलोविक ने कहा, "कई दिनों पहले मॉस्को में एक भीषण आग लगी थी. तब पुतिन खुद मौके का जायजा लेने आए थे और व्यक्तिगत तौर पर लोगों से मिले थे. जिनके मकान जल गए थे उनके पुनर्निर्वास के लिए धन भी जारी किया गया था. मैने कभी इतने बड़े कद के नेता को किसी आम आदमी से ऐसे मिलते नहीं देखा था."

हालांकि मोस्को में मौजूद बीबीसी संवाददाता सुवोजीत बाग्ची के मुताबिक कथित तौर पर वोट डालने में व्यापक धांधली हुई है और एक ही व्यक्ति से कई बार वोट डलवाए गए हैं.

विपक्ष ने भी आरोप लगाया है कि इन चुनावों में व्यापक धांधली हुई है और कई लोगों ने एक से अधिक बार मत डाले हैं.

इससे पहले प्रधानमंत्री व्लादिमीर पुतिन ने मॉस्को में अपने समर्थकों की एक रैली में ऐलान किया कि वे एक खुली और ईमानदार चुनावी जंग में जीत गए हैं. अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए पुतिन ने ‘देश के हर कोने में अपने समर्थकों का धन्यवाद किया’.

पुतिन ने नम आंखों से कहा कि वे चुनाव जीत गए हैं.

पुतिन ने नम आंखों में कहा, “मैंने वादा किया था कि हम जीतेंगे और हम जीत गए हैं. रूस का वैभव बना रहे. हम एक खुली और ईमानदार चुनावी जंग में जीते हैं. हमने साबित कर दिया है कि हम पर कुछ नहीं थोपा जा सकता. ”

पुतिन समर्थकों के बैनर पर लिखा था - पुतिन, हमारे राष्ट्रपति, हम पुतिन पर यकीन करते हैं. लेकिन ऐसे संकेत भी मिले हैं कि क्रेमलिन के बाहर पहुंचे लोगों में से कुछ को यहां आने के लिए मजबूर किया गया है.

मॉस्को में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है और शहर में इस समय छह हज़ार अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात हैं जिन्हें देश के अन्य हिस्सों से लाया गया है.

धांधली के आरोप

मतदान समाप्त होने के बाद एक प्रेसवार्ता में वामपंथी नेता गैनेडी ज़्यूगानोव ने कहा था कि चुनाव सही ढंग से नहीं हुए हैं.

उन्होंने कहा कि बढ़ते जन आक्रोश के चलते पुतिन पहले की तरह राज नहीं कर पाएंगे. एक पुतिन विरोधी नेता व्लादिमीर रिजकोव ने कहा कि ये चुनाव किसी भी तरीके से वैध नहीं कहे जा सकते.

ये चुनाव दिसंबर में हुए संसदीय चुनावों में धांधली के आरोपों की पृष्ठभूमि में हुए हैं.

रूस में मौजूद पर्यवेक्षकों ने कहा है कि कई लोगों को बसों में भरकर कई मतदान केंद्रों पर ले जाकर बार-बार मतदान करवाया गया है. ये धांधली मतदान केंद्रों पर वेब कैमरे लगाए जाने और हज़ारों स्वतंत्र पर्यवेक्षकों की मौजूदगी के बावजूद हुई है.

पुतिन विरोधी ब्लॉगर और भ्रष्टाचार के विरुद्ध अभियान चलाने वाले अलेक्सी नवालनी ने बीबीसी को बताया, “बड़े पैमाने पर जालसाज़ी, विशेषकर मॉस्को में...एक ही मतदाता समूह द्वारा बार-बार विभिन्न केंद्रों पर मतदान करने की घटनाएं हुई हैं.”

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.