चुनाव आयोग मामला: सलमान खुर्शीद ने खेद जताया

 मंगलवार, 14 फ़रवरी, 2012 को 17:19 IST तक के समाचार
खुर्शीद

खुर्शीद ने चुनाव आयोग के नोटिस के बाद पहले आक्रामक तेवर अपनाए थे.

केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने अल्पसंख्यकों को उत्तर प्रदेश में आरक्षण को लेकर अपने बयान से उठे विवाद में चुनाव आयोग से खेद प्रकट किया है.

खुर्शीद के खेद व्यक्त करने के बाद चुनाव आयोग ने भी इस मामले का अंत करने का निर्णय लिया है.

खुर्शीद ने आयोग को लिखे एक पत्र में कहा है कि उनकी मंशा आदर्श आचार संहिता को तोड़ने का नहीं थी.

'आयोग सही'

सोमवार देर शाम लिखे एक पत्र में खुर्शीद ने चुनाव आयोग को कहा है कि वो "चुनाव आयोग के विवेक के आगे झुकते हैं." खुर्शीद ने यह भरोसा भी दिलाया है कि वो आगे ऐसा मौका नहीं आने देंगें.

खुर्शीद के इस पत्र के पहले उनकी पार्टी कांग्रेस ने अपने आप को इस विवाद से अलग कर लिया था. चुनाव आयोग की राष्ट्रपति से खुर्शीद की शिकायत के बाद कांग्रेस ने खुर्शीद के विवादित बयान को उनका निजी बयान करार दिया था.

"मेरी मंशा कभी आदर्श चुनाव संहिता की हद से बाहर जाने की नहीं थी. मेरे मन में चुनाव आयोग के लिए और इसके द्वारा अब तक लिए निर्णयों के लिए बहुत इज्जत है"

सलमान ख़ुर्शीद

पार्टी ने यह भी कहा था, " जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों को जिम्मेदारी के साथ बयान देना चाहिए."

खुर्शीद ने चुनाव आयोग को लिखे अपने पत्र में खेद जताया है. खुर्शीद ने लिखा है " मेरी मंशा कभी आदर्श चुनाव संहिता की हद से बाहर जाने की नहीं थी. मेरे मन में चुनाव आयोग के लिए और उसके निर्णयों के लिए बहुत सम्मान है."

विवाद

पिछले महीने सलमान ख़ुर्शीद ने फर्रुखाबाद सदर क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी और अपनी पत्नी लुइस खुर्शीद के समर्थन में आयोजित जनसभा में कहा था कि उनकी पार्टी 27 प्रतिशत के ओबीसी के आरक्षण में से अल्पसंख्यकों के लिए उप कोटा बढ़ा कर नौ प्रतिशत कर देगी.

चुनाव आयोग ने इसे आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए उन्हें नोटिस जारी किया था. नोटिस के बाद सलमान खुर्शीद ने पहले कहा था कि उन्हें इस बयान पर कोई पछतावा नहीं है. और तो और एक चुनावी सभा के दौरान सलमान खुर्शीद ने यह कह दिया था कि चुनाव आयोग चाहे उन पर पाबंदी लगाए या फिर उन्हें फांसी दे दे, लेकिन वह पिछड़े मुसलमानों को उनका हक दिलाकर रहेंगे.

माफी मांगने के पूर्व खींचते चले आ रहे इस इस विवाद में चुनाव आयोग के नोटिस के जवाब में खुर्शीद ने वर्ष 2009 में कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र का हवाला देते हुए कहा था कि पार्टी पहले ही मतदाताओं से ये वादा कर चुकी है.

आयोग की ओर से राष्ट्रपति को पत्र लिखने और पार्टी के इस मामले से पल्ला झड़ने के बाद आखिरकार खुर्शीद में खेद व्यक्त करके इस विवाद का अंत करने की कोशिश की है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.