BBC navigation

ब्रिटेन में विदेशी छात्र दबाव में

 शनिवार, 1 अक्तूबर, 2011 को 17:17 IST तक के समाचार
ब्रिटेन में छात्र

ये अध्ययन ऐसे समय में आया है जब सरकार विदेशी छात्रों की संख्या में कटौती की योजना बना रही है

ब्रितानी डॉक्टरों ने चेतावनी दी है कि वहां के कॉलेजों में बाहर से आकर पढ़ने वाले छात्र मानसिक तनाव का शिकार हो सकते हैं.

ब्रिटेन के रॉयल कॉलेज ऑफ़ साइकेट्रिस्ट की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि छात्रों को तनाव से मुक्ति दिलाने के लिए ब्रितानी विश्वविद्यालयों को काउंसलिंग पर ज़्यादा पैसा ख़र्च करना होगा.

रिपोर्ट कहती है कि बाहर से आने वाले छात्रों पर मुख्य रूप से अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव ज़्यादा होता है क्योंकि इनमें से ज़्यादातर कॉलेज की फ़ीस के लिए अपने परिवार पर निर्भर होते हैं.

लोग भारी खर्चा कर ब्रिटेन की विश्वविद्यालयों में पढ़ाई करने तो आते हैं, लेकिन वहां की जीवनशैली और संस्कृति को अपनाने की प्रक्रिया में अपने जीवन में कई वित्तीय बदलाव लाने की कोशिश करते हैं, जिसका असर उनकी मानसिक स्थिति पर पड़ता है.

बीबीसी संवाददाता ब्रैनवेन जैफ्रीज़ का कहना है कि ब्रिटेन में पढ़ने वाले ज़्यादातर छात्र पैसे के लिए अपने परिवारों पर निर्भर करते हैं. परिवार की अपेक्षाओं और उम्मीदों को पूरा करने का बोझ उन पर बना रहता है, जिसके कारण वे डिप्रेशन यानी अवसाद का शिकार हो जाते हैं.

संस्कृति का दबाव

रिपोर्ट में लिखा है कि बाहर से आने वाले छात्र अपने परिवार पर वित्तीय बोझ डालने की ग्लानि में ख़ुद की इच्छाओं को दबाने की कोशिश करते हैं और कुछ छात्र तो इसी तनाव में आ कर कभी कभी ठीक से खाना भी नहीं खाते.

विदेशी छात्र

विदेशी छात्रों के लिए अपनी पढ़ाई और खर्च दोनों के बीच संतुलन बनाना पड़ता है

मनोचिकित्सकों का कहना है कि ब्रिटेन में स्थानीय छात्रों के बीच शराब पीने का चलन बेहद आम है जिससे कि वो बाहरी छात्र ख़ुद को अलग थलग महसूस करते हैं, जो ऐसी जीवनशैली के आदी न हों.

रिपोर्ट कहती है कि कई बाहरी छात्रों की सभ्यता उन्हें शराब पीने की इजाज़त नहीं देती, जिसकी वजह से वे विश्वविद्यालय में दोस्त नहीं बना पाते और खुद को औरों से कटा हुआ सा महसूस करते हैं.

रॉयल कॉलेज ऑफ़ साइकेट्रिस्ट ने ये भी चेतावनी दी है कि आज की पीढ़ी के छात्र पुरानी पीढ़ियों से ज़्यादा डिप्रेशन का शिकार होते हैं.

साथ ही रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछड़े हुए इलाकों से आने वाले छात्र विश्वविद्यालय की जीवनशैली में ठीक से घुल मिल नहीं पाते.

चेतावनी जताई गई है कि पैसा बचाने के लिए काउंसिलिंग जैसी सुविधाओं पर ज़्यादातर विश्वविद्यालय कम से कम खर्च कर रहे हैं और इसे बढ़ाना पड़ सकता है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.