इतिहास के पन्नों से

 सोमवार, 12 सितंबर, 2011 को 07:37 IST तक के समाचार

इतिहास के पन्नों को पलट कर देखें तो पाएँगे कि 12 सितंबर के दिन अमरीका ने चरमपंथ के खिलाफ़ युद्ध की घोषणा की थी. इसी दिन सोवियत संघ ने चंद्रमा के लिए एक रॉकेट छोड़ा था.

2001 : अमरीका ने युद्ध की घोषणा की

जॉर्ज बुश को जब वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले की ख़बर मिली तब वो एक स्कूल में नन्हें बच्चों को कहानी सुना रहे थे

राष्ट्र के नाम एक संदेश में अमरीका के तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने घोषणा की कि अमरीका अपने देश की भूमि पर हुए अब तक के सबसे बुरे चरमपंथी हमले का बदला लेने के लिए अपनी पूरी ताक़त झोंक देगा.

अमरीका के राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले को स्वतंत्रता पसंद करने वाले लोगों के खिलाफ़ युद्ध का क़दम बताया. साथ ही बुश ने अपने ग़ुस्से और पीड़ा से भरे देशवासियों को धैर्य रखने को कहा और कहा कि यह एक लंबी लड़ाई होगी.

बुश ने दुनिया भर के राष्ट्राध्यक्षों से चरमपंथ के खिलाफ़ लड़ाई में साथ देने की अपील की. दुनिया भर के नेताओं सहित उन देशों के नेताओं ने भी इस हमले की निंदा की जो अमरीका के विरोधी समझे जाते थे. लीबिया और फ़लस्तीनी नेताओं ने भी इन हमलों की निंदा की.

दुनिया में केवल इराक के तत्कालीन राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन ने इस हमले को सही ठहराया और कहा," ये दुनिया में सभी तानाशाहों और शोषकों के लिए सबक है."

1959 : सोवियत संघ का चंद्र अभियान

चांद पर पहुँचने वाला पहला यान सोवियत संघ का था

सोवियत संघ ने साल 1959 में इसी दिन चंद्रमा के लिए एक विशालकाय रॉकेट छोड़ा था. इस रॉकेट पर 391 किलो वैज्ञानिक उपकरण लदे हुए थे.

यह चाँद के लिए सोवियत संघ का छोड़ा हुआ दूसरा रॉकेट था. इसी तरह का पिछ्ला रॉकेट 2 जनवरी को छोड़ा गया था जो विफल रहा.

कई चरणों वाला यह रॉकेट 11.3 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ़्तार से उड़ता हुआ सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा के बाहर निकल गया.

दो दिन बाद यह चाँद की सतह पर पहुँचने वाला अपने किस्म का पहला रॉकेट बना. इस अभियान के बाद 12 अप्रैल 1961 को यूरी गैगरिन अंतरिक्ष में पहुँचने वाले पहले आदमी बने.

इसी विषय पर अन्य ख़बरें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.