चीन में करोड़ों लोग सूखा प्रभावित

सूखे की इतनी बुरी स्थिति 50 वर्षों बाद बनी है

चीन में सूखे से क़रीब साढ़े तीन करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं. ये पचास वर्षों का सबसे बुरा सूखा बताया जा रहा है.

अधिकारियों का कहना है कि इस साल अब तक सामान्य से आधी बारिश ही हुई है.

देश के मध्य और पूर्वी प्रांतों में पेयजल की क़िल्लत हो गई है और सूखाग्रस्त इलाक़ों से बड़ी संख्या में किसान पलायन कर रहे हैं.

ये इलाक़े यांगत्सी नदी से लगे हुए हैं.

इन इलाक़ों में जलाशयों में पानी का स्तर कम होने का असर बिजली की आपूर्ति पर पड़ा है.

बड़े बाँध की भूमिका

सूखे का असर खाद्यान्नों की क़ीमतों पर भी पड़ा है. अधिकारियों को आशंका है कि अगले कुछ हफ़्तों में स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो क़ीमतें और बढ़ सकती हैं.

सरकारी अधिकारियों का कहना है कि थ्री गॉर्जेज़ बाँध से लगे विशालकाय जलाशय से अतिरिक्त पानी छोड़ कर स्थिति पर क़ाबू पाने की कोशिश की जा रही है.

वैसे चीन में ऐसे विशेषज्ञों की कमी नहीं हैं जो सूखे की गंभीर समस्या की जड़ में इस बाँध की भूमिका का भी उल्लेख करते हैं.

सरकार भी अब स्वीकार करने लगी है कि नदी जल आपूर्ति पर इस बाँध का नकारात्मक असर हो सकता है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.