लादेन को पाकिस्तान में स्थानीय समर्थन

ओसामा बिन लादेन

व्हाइट हाउस के आतंकवाद निरोधक मामलों के सलाहकार जॉन ब्रेनेन ने कहा है कि यह समझ से बाहर है कि ओसामा बिन लादेन बिना किसी स्थानीय समर्थन के इतने लंबे तक पाकिस्तान में रह सकते थे.

अमरीकी ऑपरेशन का और ब्योरा देते हुए उन्होंने कहा कि मौका मिलने पर अमरीका के विशेष सैनिक अल क़ायदा नेता को ज़िंदा पकड़ने के लिए तैयार थे लेकिन ऐसा हो नहीं पाया.

अमरीकी ख़ुफ़िया विभाग को पाकिस्तान में ओसामा बिन लादेन के ठिकाने का पता उस समय लगा जब उन्होंने उनके विश्वस्त संदेशवाहकों की शिनाख़्त कर ली.

ब्रेनेन ने कहा कि ओसामा के शव को समुद्र में दफ़नाने से पहले इस्लामी अंतयेष्टि कार्य कलापों का पूरा पालन किया गया.

इस बीच कई अरब नेताओं ने ओसामा बिन लादेन के मारे जाने का स्वागत किया है लेकिन जेहाद को समर्पित वेब साइटों में गुस्से और हताशा का सम्मिश्रण दिखाई दे रहा है. कहीं कहीं बदला लेने की बात भी की जा रही है.

ओसामा बिन लादेन को अपना नायक मानने वाले लोगों ने उनकी मौत पर अपना आक्रोश व्यक्त किया है.

म्रदु भाषी युवा तालिबान चरमंथी मोहम्मद यूनुस उनमें से एक हैं.उन्होंने अफ़गानिस्तान में हेलमंद और कंधार के मोर्चे पर चार साल तक लड़ाई लड़ी है.

ऊपरी तौर पर तो वह शाँत दिखाई दे रहे थे लेकिन उनकी आवाज़ बता रही थी कि उनके अंदर कितना ग़ुस्सा है.

उनका कहना था कि ओसामा उनके पिता की तरह थे.उनका मानना है कि ओसामा की मौत चरमपंथियों के लिए एक धक्का ज़रूर है लेकिन इससे उनके संघर्ष पर कोई असर नहीं पड़ेगा क्योंकि जेहाद किसी एक व्यक्ति पर निर्भर नहीं करता.

यूनुस का कहना था कि वह और उनके साथी अमरीका के ख़िलाफ़ लड़ाई जारी रखेंगे और ओसामा की शहादत का अमरीका से अफ़्गानिस्तान और पाकिस्तान में बदला लिया जाएगा.

वज़ीरिस्तान में तालिबान के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि इस हत्या में पाकिस्तानी सुरक्षा बलों की साँठगाँठ के कारण वह उनपर हमले करेंगे.

इसके अलावा हक्कानी समूह के प्रवक्ता ने ओसामा की शहादत की तारीफ़ की है.उनके अनुसार चरमपंथी अब अफ़गानिस्तान में अमरीका के ख़िलाफ़ अपने प्रयासों को दोगुना कर देंगे.

इस क्षेत्र के सुरक्षा बल अपने आप को जवाबी हमलों के लिए पहले से ही तैयार कर रहे हैं.इस आशंका को अमरीका ने सबसे पहले स्वीकार किया है और उसने अगली सूचना तक पाकिस्तान में आम लोगों के लिए अपने दूतावास और वाणिज्य दूतावास को बंद कर दिया है.

BBC navigation

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.