श्रीलंका में सेना बेचेगी सब्ज़ी

कोलंबो का सब्ज़ी बाज़ार

शांत श्रीलंका में सेना अब नई-नई भूमिकाओं में दिख रही है.

तमिल विद्रोहियों के साथ लड़ाई ख़त्म होने के बाद भी सेना की भूमिका समाप्त नहीं हुई है.

सेना ने पिछले दिनों एक पर्यटक केंद्र स्थल खोला और अब वहाँ सेना सब्ज़ी बेचने लगी है.

इस शुक्रवार से सेना ने किसानों से सब्ज़ी ख़रीदकर उन्हें बेचना शुरू किया है.

श्रीलंका की सेना के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि सेना ने आमलोगों को महँगाई से राहत दिलाने के लिए सब्ज़ी बेचने का फ़ैसला किया है.

उन्होंने बताया कि सेना दूर के इलाक़ों से सब्ज़ियाँ ख़रीदकर कोलंबो लाएगी जहाँ उन्हें आम दूकानों से एक तिहाई कम मूल्य पर बेचा जाएगा.

श्रीलंका में हाल के समय में खाने-पीने के सामानों की कमी के कारण उनके दामों कें भारी उछाल आया है.

महँगाई से बचाव

सब्ज़ी बाज़ार

श्रीलंका में पिछले कुछ समय से सब्ज़ियों की कीमतें काफ़ी बढ़ गई हैं

श्रीलंका में महँगाई पर नियंत्रण के लिए पिछले कुछ अरसे में कई अनूठे उपाय लागू किए गए हैं.

सरकार ने पिछले दिनों बड़े पैमाने पर अंडों और मुर्गियों का आयात किया है.

सरकार नारियल का भी आयात करना चाहती थी लेकिन नारियल संबंधी बीमारियों के नियम-क़ानूनों के कारण ये विचार त्याग दिया गया.

सेना का सब्ज़ी बेचना भी ऐसा ही एक अनूठा उपाय है.

सेना के प्रवक्ता ने बताया कि उत्पाद को खेतों से बाज़ार तक लाने में यातायात पर हुआ अधिकतर ख़र्च सेना स्वयं वहन करेगी.

उन्होंने कहा कि इससे उत्पादकों को भी फ़ायदा होगा और उपभोक्ताओं को भी.

हालाँकि कुछ जानकार इस फ़ैसले को संदेह की नज़र से देख रहे हैं और उनका मानना है कि कीमतों के उतार-चढ़ाव को ऐसे ही छोड़ देना चाहिए जिससे कि किसान अपने लाभ का निवेश कर और अधिक उत्पादन कर सकें.

लेकिन श्रीलंका सेना का कहना है कि वो तबतक सब्ज़ी बेचती रहेगी जबतक कि कीमतें स्थिर नहीं हो जातीं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.