बाढ़ पीड़ितों की मदद करें: ओसामा

ओसामा

ओसामा बिन लादेन अलक़ायदा के प्रमुख हैं और अमरीका को उनकी तलाश है.

अलक़ायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन ने अपने एक नए ऑडियो संदेश में पाकिस्तान में बाढ़ पीड़ितों की मदद करने की अपील की है.

सूचना के अनुसार उनका ये ऑडियो संदेश एक इस्लामी वेबसाइट पर प्रकाशित हुआ है.

इंटेलिजेंस ग्रुप साइट के अनुसार 11 मिनट के इस ताज़ा संदेश में ओसामा ने प्राकृतिक आपदा पर अफ़सोस ज़ाहिर करते हुए प्रभावित लोगों की भरपूर मदद करने की अपील की है.

इस संदेश का शीर्षक है "सहायता कार्यों की कार्यप्रणाली".

ऑडियों संदेश में कहा गया है कि युद्ध के मुक़ाबले मौसम में आए बदलाव के कारण लोग ज़्यादा प्रभावित हुए है्.

इस संदेश के बारे में कहा जा रहा है कि ओसामा का इशारा पाकिस्तान में आए हालिया सैलाब से होने वाली तबाही की ओर है.

मुक़ाबला

सरकारें जो अपनी फ़ौजों पर धन ख़र्च करती हैं वह सहायता के कामों पर ख़र्च की गई रक़म से कहीं ज़्यादा है.

ओसामा, एपी के अनुसार

ओसामा के मुताबिक़, "पाकिस्तान में आई तबाही बहुत बड़ी है और उसे बयान करना बहुत मुश्किल है."

उनके अनुसार इस तबाही के कारण प्रभावित लोगों को बहुत सी कठिनाईयों का सामना है.

संदेश के मुताबिक़ ओसामा बिन लादेन ने दान देने वाले लोगों पर ज़ोर दिया है कि वह मुश्किल की इस घड़ी में अपने पाकिस्तानी भाईयों की दिल खोल कर मदद करें.

अमरीकी समाचार एजेंसी एपी के अनुसार इस संदेश में ओसामा ने कहा, "सरकारें जो अपनी फ़ौजों पर धन ख़र्च करती हैं वह सहायता के कामों पर ख़र्च की गई रक़म से कहीं ज़्यादा है."

अलक़ायदा के प्रमुख ने कहा कि एक सहायक संगठन की स्थापना की जाए जो मुस्लिम देशों के उन क्षेत्रों पर खोज करें जहां सैलाब का ख़तरा है. ग़रीब इलाक़ों में विकास के काम किए जाएं और खाद्य पदार्थों की सुरक्षा के लिए कृषि के क्षेत्र में काम किया जाए.

याद रहे कि ओसामा की ओर से जारी किया गया यह नया ऑडियों संदेश मार्च के बाद जारी होने वाला पहला संदेश है. बहरहाल, इसके असली होने की पुष्टि अभी बाक़ी है.

BBC navigation

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.